close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

झुंझुनूं: बीजेपी की महिला नेता से अभद्रता के मामले में FIR दर्ज, जांच शुरू

इस मामले को लेकर गत दिनों जयपुर में पूर्व सीएम वसुंधरा राजे से भी पूर्व सरपंच सरोज झाझडिय़ा ने मुलाकात की और अपनी आप बीती बताई.

झुंझुनूं: बीजेपी की महिला नेता से अभद्रता के मामले में FIR दर्ज, जांच शुरू
प्रतीकात्मक तस्वीर

संदीप केडिया, झुंझुनूं: मंडावा विधानसभा सीट पर हुए उप चुनाव(Mandawa Vidhansabha By Elections 2019) के परिणाम आने के बाद हमीरी कलां पंचायत के गोपालपुरा गांव में रात को जीत के जश्न के नाम पर हुए हंगामे की शिकायत सदर पुलिस को देने के बाद भी कार्रवाई नहीं हुई तो अब जयपुर(Jaipur) में गुहार लगाई गई है.

हमीरी कलां की पूर्व सरपंच एवं बीजेपी महिला मोर्चा की कार्यकर्ता सरोज झाझडिय़ा ने बताया कि 24 अक्टूबर की रात को कांग्रेस(Congress) के समर्थकों ने उनके घर के चारों और आतिशबाजी की और गाड़ी में लगे साउंड सिस्टम को तेज आवाज में चलाकर उन्हें परेशान किया. यही नहीं जोर-जोर से गालियां निकालकर उन्होंने बदतमीजी की. अभद्रता यही नहीं रूकी, तीन युवकों ने घर में घुसकर पूर्व सरपंच को पकडऩे और दुष्कर्म करने की कोशिश की. लेकिन फिर उन्होंने जैसे तैसे गेट बंदकर अपनी इज्जत बचाई. 

इस मामले की शिकायत उन्होंने 25 अक्टूबर को सदर थाने में भी दी थी. लेकिन सदर पुलिस ने जांच के नाम 12 दिनों तक कुछ नहीं किया. इसके बाद पूर्व सरपंच सरोज झाझडिय़ा ने जयपुर में स्थित वन स्टॉप क्राइसिस मैनेजमेंट सेंटर फॉर वीमन (अपराजिता) में जाकर अपनी लिखित फरियाद दी. यहां पर इस शिकायत को गंभीर माना गया. 5 नवंबर को अपराजिता सेंटर की ओर से जयपुर एसपी को भादंस की धारा 154 (3) में ईमेल के जरिए एफआईआर दर्ज कर जांच करने को कहा गया. जिसके बाद गुरुवार को सदर थाने में गांव के तीन युवकों के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है.
 
घटना के दौरान भी किए थे फोन
पूर्व सरपंच सरोज झाझडिय़ा ने बताया कि 24 अक्टूबर की रात को भी उन्होंने सदर पुलिस को फोन किया था. सदर पुलिस से पहले जब पुलिसकर्मी आए तो उन्हें देखकर हंगामा कर रहे युवक इधर-उधर हो गए. लेकिन जब दुबारा पुलिस आई तो इन युवकों पर कार्रवाई करने की बजाय इन्हें केवल समझाकर चली गई. लेकिन पुलिस की समझाइश युवकों के ज्यादा देर तक नहीं ठहरी और उन्होंने पूरी रात जमकर हंगामा किया.

आज भी कायम है आतिशबाजी के निशान
पूर्व सरपंच सरोज झाझडिय़ा ने बताया कि उस रात को इतनी आतिशबाजी की गई कि उनके घर के अंदर तक पटाखे आए. यही नहीं उनके घर के चबूतरे पर तो आज दिन तक आतिशबाजी के निशान कायम है. सरोज झाझडिय़ा ने बताया कि उनके अलावा गांव के लोगों ने भी इस तरह का बर्ताव करने के लिए युवकों को रोका तो उन्होंने उनके साथ भी गाली गलौच की. 

इन युवकों पर दर्ज हुआ मामला
सदर थाने में अब गोपालपुरा गांव के कमलेश पुत्र मोहनलाल, संदीप पुत्र हरलाल तथा विकास पुत्र घनश्याम के खिलाफ भादसं की धारा 451, 376 तथा 511 के तहत मामला दर्ज किया गया है. जिसके मुताबिक पुलिस ने रिपोर्ट के आधार पर आम रास्ते पर बदमाशी करना, दुष्कर्म का प्रयास करने में इन्हें प्रथम दृष्टया दोषी माना है. हालांकि ये जांच का विषय है कि किन धाराओं में आगे कार्रवाई हो पाती है. 

पूर्व सीएम से भी मिलीं महिला कार्यकर्ता
इस मामले को लेकर गत दिनों जयपुर में पूर्व सीएम वसुंधरा राजे से भी पूर्व सरपंच सरोज झाझडिय़ा ने मुलाकात की और अपनी आप बीती बताई. उन्होंने आश्वस्त किया है कि बीजेपी उनके साथ है. साथ ही चिंता जताई कि प्रदेश में महिला अपराधों में लगातार बढोतरी हो रही है. वहीं महिला जनप्रतिनिधियों के साथ हो रही घटनाओं में भी एफआईआर तक दर्ज नहीं हो पा रही है. जो बेहद शर्मनाक है. 

महिला आयोग ने भी दिया कार्रवाई का आश्वासन
इसके अलावा सरोज झाझडिय़ा ने महिला आयोग में भी लिखित रिपोर्ट देने के अलावा अपने बयान दर्ज करवाए है. साथ ही झुंझुनूं पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाए है. झाझडिय़ा ने बताया कि आयोग में दर्ज करवाए गए बयानों के बाद उनके मामले को गंभीर मानते हुए उन्होंने आश्वस्त किया है कि आयोग इस दिशा में कड़ी कार्रवाई करवाने के लिए काम करेगा.