25 सितंबर को होगी कांग्रेस जनघोषणा पत्र समिति की पहली बैठक, लिए जाएंगे फीडबैक

सरकार की मंशा है कि 2 अक्टूबर को जनता के सामने सरकार के कामकाज का रिपोर्ट कार्ड पेश करना है.

25 सितंबर को होगी कांग्रेस जनघोषणा पत्र समिति की पहली बैठक, लिए जाएंगे फीडबैक
फीडबैक के आधार पर सरकार 2 अक्टूबर को जनता के समक्ष अपना रिपोर्ट कार्ड पेश करने जा रही है.

जयपुर: कांग्रेस जनघोषणा पत्र समिति की आखिरकार 8 माह बाद पहली बैठक 25 सितंबर को राजधानी जयपुर में आयोजित होगी. समिति कांग्रेस के मेनिफेस्टो में किए गए वादों के क्रियान्वित को लेकर मंत्रियों से फीडबैक लेगी, इसी फीडबैक के आधार पर सरकार 2 अक्टूबर को जनता के समक्ष अपना रिपोर्ट कार्ड पेश करने जा रही है.

कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी के निर्देश पर बनी जन घोषणा पत्र समिति की 8 महीने बाद पहली बैठक कल होगी. समिति की बैठक लेने चेयरमैन ताम्रध्वज साहू कल जयपुर आ रहे हैं. दोपहर 12:00 बजे से लेकर शाम 4:00 बजे तक खासा कोठी में होने वाली इस बैठक में मंत्रियों से उनके विभागों के कामकाज का ब्यौरा लेने के साथ-साथ जनघोषणा पत्र के वादों पर कितना काम हुआ है, इसे लेकर मंत्रियों से कामकाज का फीडबैक लिया जाएगा. 

यह भी पढ़ें- कृषि बिल पर आर-पार की लड़ाई के मूड में कांग्रेस, केंद्र को घेरने के लिए राजस्थान में करेगी आंदोलन

समिति के चेयरमैन और छत्तीसगढ़ सरकार के गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू कल जयपुर आकर बैठक लेंगे. उनके साथ कांग्रेस सांसद और समिति के सदस्य अमर सिंह भी आएंगे. चुनाव घोषणा पत्र के क्रियान्वयन के लिए कांग्रेस आलाकमान की ओर से बनाई गई कांग्रेस जनघोषणा पत्र समिति में छत्तीसगढ़ के गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू को चेयरमैन, सांसद अमर सिंह, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, अविनाश पांडे और सचिन पायलट को समिति का सदस्य बनाया गया था.

दरअसल, सरकार की मंशा है 2 अक्टूबर को जनता के सामने सरकार के कामकाज का रिपोर्ट कार्ड पेश करना है. कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अजय माकन ने जयुपर में फीडबैक कार्यक्रम के पहले ही दिन जनघोषण-पत्र पर हुए काम का रिपोर्ट कार्ड 2 अक्टूबर को जनता के सामने पेश करने की घोषणा की थी.

फीडबैक के दौरान माकन ने मंत्रियों से कामकाज का लेखा-जोखा देने की बात कही थी. माकन की घोषणा के बाद कैबिनेट सब कमेटी ने कई दौर की बैठकें करके रिपोर्ट कार्ड तैयार करने पर मंथन किया है. रिपोर्ट कार्ड में जनघोषणा-पत्र के अलावा भी गहलोत सरकार की बड़ी उपलब्धियों का लेखा जोखा पेश किए जाने के संभावना है.