close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान में किसान ऋण वितरण में पकड़ी रफ्तार, 6 लाख किसानों ने किया आवेदन

सवाई माधोपुर ने 55 हजार से ज्यादा किसानों को ऋण बांट दिए है. अव्वल जिलों में अजमेर, अलवर, जयपुर का नाम शामिल है.

राजस्थान में किसान ऋण वितरण में पकड़ी रफ्तार, 6 लाख किसानों ने किया आवेदन
पाली में अब तक सबसे कम 3 हजार किसानों को भी ऋण बंट पाया है.

जयपुर: राजस्थान में किसानों को राहत पहुंचाने के लिए गहलोत सरकार की ऋण वितरण की प्रक्रिया ने रफ्तार पकड़ ली है. ऑनलाइन वितरण सिस्टम में काम में तेजी आई है और किसानों को भी दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ रहा है. भले ही मानसून में बारिश की रफ्तार सुस्त पड़ गई हो, लेकिन किसानो को बंटने वाले ब्याजमुक्त फसली ऋण ने रफ्तार पकड़ ली है. 

तीन महीने से देरी से शुरू हुए इस अभियान में सहकारिता विभाग ने केवल 5 दिन में 81 हजार किसानों को ऋण वितरित कर दिया है. प्रदेश के 25 लाख से ज्यादा किसानों में से अब तक सवा छ: लाख किसानों ने आवेदन कर दिया है. ग्राम सहकारी समिति और ई-मित्र पर किए जा रहे ऑनलाइन आवेदन को जांच पड़ताल के बाद 10 दिन के भीतर ही उनका निस्तारण किया जा रहा है. 

बता दें कि 81 हजार में से सवाई माधोपुर ने 55 हजार से ज्यादा किसानों को ऋण बांट दिए है. उसके बाद अव्वल जिलों में अजमेर, अलवर, जयपुर का नाम शामिल है. अजमेर मे अब तक 25 हजार, अलवर में 23 हजार और जयपुर में 20 हजार से ज्यादा किसानों को कर्जा मिल चुका है. लेकिन ऐसे भी कई जिले है, जहां लाखों आवेदन आने के बावजूद भी किसानों को राहत नहीं मिल पाई है, जिसमें सबसे फिसड्डी पाली जिले का नाम आता है.

पाली में अब तक सबसे कम 3 हजार किसानों को भी ऋण बंट पाया है. इसके बाद झन्झुनू में 5 हजार, सिरोही में 6 हजार,नागौर में 7 हजार किसानों को ही ऋण मिल पाया है.ऐसे में इन जिलों ने रफ्तार नहीं पकडी तो किसानों की कमर टूट सकती है. क्योंकि राजस्थान में 25 लाख से ज्यादा किसानों को ऋण वितरण का लाभ मिलना है. ऐसे में समय से ऋण वितरित नहीं किए गए तो, किसानों के ये कर्ज किसी काम का नहीं रहेगा.