कोटा: विवाद निपटाने के लिए हेड-कांस्टेबल ने मांगे 30 लाख

इस संबंध में शिकायतकर्ता समीर खान ने एसपी को आवेदन दिया है.

कोटा: विवाद निपटाने के लिए हेड-कांस्टेबल ने मांगे 30 लाख
जिले के चर्चित हेड कांस्टेबल रविंद्र मलिक पर फिर से संगीन आरोप लगा है.

कोटा/केके शर्मा: वैसे तो राजस्थान पुलिस का ध्येय वाक्य है ''अपराधियों में डर, आम जन में विश्वास''. लेकिन अब आम लोगों की सुरक्षा का दावा करने वाली कोटा पुलिस से न्याय की उम्मीद लगाना बेमानी साबित हो रहा है. जिले के लोग अपराधियों से ज्यादा पुलिस से खौफजदा हैं. 

कोटा जिला पुलिस में तैनात चर्चित हेड कांस्टेबल रविंद्र मलिक पर फिर से कई संगीन आरोप लगे हैं. इससे पहले हेड-कांस्टेबल मलिक पर फायरिंग, हनिट्रैप गैंग का साथ देने और मुकदमा निबटाने के लिए पैसे मांगने का आरोप लगाया गया था. इस बार भी इसकी शिकायत पीड़ित ने कोटा के एसपी से की है.

शिकायतकर्ता समीर खान ने एसपी को दिए आवेदन में कहा है कि एक जमीन के मामले में मुकदमा को निबटाने के लिए 30 लाख रुपयों की मांग हेड कांस्टेबल कर रहा था. वहीं, पैसा ना देने पर जेल भेजने की धमकी भी दे रहा था. 

मामले में आया ट्वीस्ट, आरोपी वॉयस मैसेज भेजकर खुद को बता रहा बेकसूर

आरोपी हेड कान्सटेबल रविंद्र मलिक ने एक वॉयस मैसेज भेजकर हनिट्रैप मामले में खुद को निर्दोष बताते हुए इसे अपने खिलाफ साजिश बता रहा है. वहीं, इस मामले में पीड़ित तेजवीर मलिक ने भी अपना वीडियो मैसेज भेजकर आरोपी हेड कांस्टेबल रविंद्र मलिक और कांस्टेबल योगेश के खिलाफ उचित कार्रवाई नहीं होने पर सुसाइड करने की धमकी दी है.

इस संबंध में पुलिस अधिकारियों ने मामले की जांच होने की बात कही है.