राजस्थान में एक परंपरा खत्म करना चाहती हैं पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल, जानिए वजह

पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा कि महिलाएं किसी से कम नहीं हैं. प्रदेश की बेटियां जब शिक्षित होगी तो समाज का उत्थान होगा. 

राजस्थान में एक परंपरा खत्म करना चाहती हैं पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल, जानिए वजह
सभी ने एक स्वर में महिला सशक्तिकरण पर जोर दिया.

जयपुर: राजधानी के बिड़ला सभागार में अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा (Akhil Bharatiya Kshatriya Mahasabha) के तत्वावधान में क्षत्राणी गांव अध्यक्ष और शहर अध्यक्ष सम्मान के साथ प्रशिक्षण समारोह आयोजित किया गया. कार्यक्रम में पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल (Pratibha Devisingh Patil), पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje), मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास, आरसीए अध्यक्ष वैभव गहलोत ने भी शिरकत की. इसमें सभी ने एक स्वर में महिला सशक्तिकरण पर जोर दिया.

कार्यक्रम में पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल (Pratibha Devisingh Patil) ने कहा कि मैं आपसे कोई अलग नहीं हूं. हमारा परिवार भी टोंक के टोडारायसिंह का रहने वाला है. हमारे दादाजी बाद में यहां से गुजरात चले गए. गुजरात से बाद में महाराष्ट्र में चले गए. वहां दादा जी गांव के मुखिया बने, जिसे पाटिल कहा जाता है. इसी तरह नाम में पाटिल शब्द जुड़ा. मैं जब 10 साल की थी, तब मां का निधन हो गया लेकिन वो पिताजी को कहकर गई कि जल्दी शादी मत करना, जितना पढ़े पढ़ाना. पिताजी ने वचन निभाया और मुझे पढ़ाया. उन्होंने महिलाओं से कहा कि मेरे कोई सींग नहीं थे. आप भी राष्ट्रपति बन सकती हैं. आप आगे बढ़ने का जज्बा रखिए. 

शराब बंदी पर भी दिया जोर
समाज में शराब का सेवन बुरी प्रथा प्रचलित है. इसे खत्म करने की जरूरत है. यहां सामाजिक आयोजनों में शराब का सेवन होता है. इसे सभी भाइयों को मिलकर खत्म करने की जरूरत है. यहां परिवार में किसी के निधन पर अफीम दी जाती है. इससे वो परिवार कर्ज में डूब जाता लेकिन समाज की ''परंपरा'' है, इसलिए उसे ये करना पड़ता है. इसे रोकने की समाज में जरूरत है. सशक्त भारत बनाने के लिए महिलाओं को सशक्त बनाना होगा. उन्होंने कहा कि सामूहिक विवाह आयोजनों को बढ़ाने की जरूरत है. महिलाओं को हां में हां मिलाने के अलावा गलत हो तो न कहने की भी ताकत होनी चाहिए.

क्या बोलीं पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे 
पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा कि महिलाएं किसी से कम नहीं हैं. प्रदेश की बेटियां जब शिक्षित होगी तो समाज का उत्थान होगा. इस दौरान मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास, मुख्य सचेतक महेश जोशी, आरसीए अध्यक्ष वैभव गहलोत सहित कई गणमान्य लोग कार्यक्रम में मौजूद रहे.

ये वीडियो भी देखें: