गहलोत सरकार के मंत्री प्रचार के बजाए कर्मचारियों-व्यापारियों को धमकाने में लगे: राजेंद्र राठौड़

Bhilwara News: राजेंद्र सिंह राठौड़ ने चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा पर भी आरोप लगाए कि एक तरफ जहां पूरा प्रदेश कोरोना की महामारी से जूझ रहा है तो दूसरी तरफ रघु शर्मा कांग्रेस की सेहत को सुधारने में लगे हुए हैं.

गहलोत सरकार के मंत्री प्रचार के बजाए कर्मचारियों-व्यापारियों को धमकाने में लगे: राजेंद्र राठौड़
राजेंद्र राठौड़ ने गहलोत सरकार पर साधा निशाना.

Bhilwara: प्रदेश में चल रहे उपचुनाव के बीच अब आरोप-प्रत्यारोप के जुबानी हमले तेज होने लगे हैं. विधानसभा उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र सिंह राठौड़ ने भी आज सहाड़ा विधानसभा उपचुनाव प्रचार के दौरान एक प्रेस वार्ता में आरोप लगाया कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार का वजूद जरूर नजर आ रहा है लेकिन सरकार अपना इकबाल खो चुकी है और यही वजह है कि अब प्रदेश सरकार के मंत्री उपचुनाव के दौरान बजाए प्रचार करने की सरकारी कर्मचारियों और व्यापारियों को धमकाने का काम कर रहे हैं.

राठौड़ आज भीलवाड़ा में प्रेस से रूबरू हुए तो उन्होंने कांग्रेस पर जमकर हमला बोला. राजेंद्र राठौड़ ने कहा कि शांति प्रिय राजस्थान अपराधों की राजधानी बनता जा रहा है. भीलवाड़ा में अपराधी दो पुलिसकर्मियों को शहीद कर देते हैं. फलौदी में अपराधी जेल तोड़कर भागने में कामयाब हो जाते हैं. पूरे प्रदेश में रोजाना फायरिंग की घटनाएं हो रही है और अब नवजात शिशुओं की चोरी का नया चलन भी सामने आ रहा है. मेवात जहां साइबर अपराधों का गढ़ बन गया है तो भीलवाड़ा के कोटड़ी जैसे इलाके राजनीतिक संरक्षण में बजरी माफियाओं के आतंक का प्रतीक बने हुए हैं.

ये भी पढ़ें-Rajasthan Bypolls में BJP ने जारी किया ब्लैक-पेपर, गिनाई सरकार की खामियां

 

चिकित्सा मंत्री पर लगाए आरोप
राजेंद्र सिंह राठौड़ ने चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा पर भी आरोप लगाए कि एक तरफ जहां पूरा प्रदेश कोरोना की महामारी से जूझ रहा है तो दूसरी तरफ रघु शर्मा कांग्रेस की सेहत को सुधारने में लगे हुए हैं. वैक्सीन की कमी को लेकर चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा के बयान पर भी राजेंद्र सिंह राठौड़ ने पलटवार किया और पूछा कि यदि वास्तव में राजस्थान में वैक्सीन सप्लाई को लेकर केंद्र सरकार भेदभाव कर रही है तो फिर राजस्थान में इतनी बड़ी संख्या में वैक्सीनेशन किस तरह हो गया. राठौड़ ने रघु शर्मा के बयान को राजनीति से प्रेरित करार दिया है.

महाराणा प्रताप को लेकर कटारिया के शब्द गलत 
राजसमंद में चुनावी सभा के दौरान विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया द्वारा वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप को लेकर की गई टिप्पणी पर राजेंद्र सिंह राठौड़ ने सफाई देते हुए कहा कि कटारिया द्वारा महाराणा प्रताप के शौर्य और बलिदान उनका उल्लेख किया जा रहा था. लेकिन इस दौरान कटारिया से गलत शब्दों का चयन हो गया जिसके लिए उन्होंने सार्वजनिक रूप से माफी भी मांग ली है. राठौड़ ने कहा कि महाराणा प्रताप के प्रति श्रद्धा में कोई कमी नहीं है और अब यह विवाद शांत हो जाना चाहिए. लेकिन शरारती तत्वों द्वारा उनके भाषण के वीडियो का केवल एक ही भाग चला कर भ्रम फैलाने की कोशिश की जा रही है.

ये भी पढ़ें-Dotasra ने Kataria पर साधा निशाना, प्रताप को लेकर दिए बयान की निंदा

 

राजेंद्र राठौड़ ने कहा कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने जिस तरह से शिक्षकों को अपमानित किया और अपने घर को नाथी का बाड़ा नहीं होने की बात कही उससे स्पष्ट है कि डोटासरा शिक्षकों का सम्मान नहीं करते हैं. वही अपने स्वयं द्वारा खाला का घर शब्द इस्तेमाल किए जाने पर राठौर ने कहा कि खाला का मतलब मौसी होता है और यह शब्द उन्होंने तब काम में लिए जब NSUI के कार्यकर्ता हुड़दंग मचा रहे थे. राठौर ने कहा कि डोटासरा का घर नाथी का बाड़ा हो ही नहीं सकता. क्योंकि वहां तो हर समस्या का समाधान किया जाता था जबकि हर भाजपा नेता इस बात पर गर्व करता है कि उनका घर नाती का बड़ा है जहां जन समस्याओं का समाधान किया जाता है.

(इनपुट-मनवीर सिंह)