Covid-19: जैसलमेर में फीकी हुई बकरीद की रंगत, बकरों के दामों में भी आई भारी गिरावट

स्थानीय निवासी मोहम्मद इलियास ने कहा कि कोरोना के कारण बकरीद की रंगत फीकी पड़ी है.

Covid-19: जैसलमेर में फीकी हुई बकरीद की रंगत, बकरों के दामों में भी आई भारी गिरावट
स्थानीय निवासी मोहम्मद इलियास ने कहा कि कोरोना के कारण बकरीद की रंगत फीकी पड़ी है.

मनीष रामदेव, जैसलमेर: देशभर में कुर्बानी का पर्व ईद-उल-अज़हा अथवा ईद-उल-अद्हा यानी बकरीद आगामी 01 अगस्त को मनाई जाएगी. ऐसे में बकरीद को लेकर सरहदी जिले जैसलमेर में जहां बहुतायत में मुस्लिम समुदाय के लोग निवास करते हैं, जिला मुख्यालय पर बकरा मंडी सज चुकी है. 

यहां अलसुबह से ही  बकरों की बिक्री के लिए लाते हैं लेकिन कोरोना महामारी के चलते इस पर्व पर मंदी का असर साफ तौर पर दिखाई दे रहा है. जहां आमतौर पर इन दिनों बकरा मंडी पर भारी भीड़ दिखाई देती थी और 15 हजार से लेकर 50 हजार तग्रामीण इलाकों से लोग अपनेक इनकी खरीद होती थी लेकिन अब आलम यह है कि इनके खरीददार तक ही नहीं मिल रहे हैं.

जैसलमेर स्थित बकरा मंडी पर विक्रेता सतार खान और सदीक़ खान ने बताया कि कोरोना के चलते एक तो पहले की तुलना में कम ही खरीददार यहां आ रहे हैं और पहले जहां अहमदाबाद, हैदराबाद सहित अन्य जगहों से जो खरीददार आते थे, वो भी इस बार नहीं आ पर रहे हैं, जिससे बकरों की बिक्री भी कम हुई है. साथ ही इनके वाजिब दाम भी नहीं मिल रहे हैं. ऐसे में उन्हें कम दामों में ही इनको बेचना पड़ रहा है. 

वहीं स्थानीय निवासी मोहम्मद इलियास ने कहा कि कोरोना के कारण बकरीद की रंगत फीकी पड़ी है और बाजारों में आवाजाही न के बराबर है लेकिन वो सरकारी गाइड लाइन के अनुसार, तय दिशा निर्देशों की पालना कर इस पर्व को मनाएंगे.