8 महीने बाद गोल्फ मैदानों में लौटी रौनक, कोविड वारियर्स-कोरोना सर्वाइवर के बीच हुआ मैच

खेल मंत्री अशोक चांदना ने कहा, 'गोल्फ खेलने से शारीरिक और मानसिक तंदुरुस्ती मिलती है. साथ ही खिलाड़ी फीट रहते हैं.'

8 महीने बाद गोल्फ मैदानों में लौटी रौनक, कोविड वारियर्स-कोरोना सर्वाइवर के बीच हुआ मैच
8 महीने बाद गोल्फ मैदानों में लौटी रौनक.

ललित कुमार/जयपुर: कोरोना महामारी के चलते जहां पिछले करीब 8 महीनों से गोल्फ के मैदान सुने पड़े थे तो वहीं, रविवार को गोल्फ के मैदान पर आयोजित हुई प्रतियोगिता से फिर रौनक लौटी है. रामबाग गोल्फ क्लब में रविवार को एक दिवसीय कोविड वारियर्स और कोविड सर्वाइवर के बीच गोल्फ प्रतियोगिता का आयोजन हुआ. रामबाग गोल्फ क्लब मैदान पर खेली गई इस प्रतियोगिता में करीब 100 से ज्यादा प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया.

कोविड वारियर्स-कोरोना सर्वाइवर के बीच हुआ मैच
प्रतियोगिता में मुख्य अतिथि के रूप में प्रदेश के खेल मंत्री अशोक चांदना ने शिरकत की. साथ ही प्रतियोगिता में जीत हासिल करने वाले खिलाड़ियों को शुभकामनाएं दी. रामबाग गोल्फ क्लब के कैप्टन डॉ. अशोक गुप्ता और सचिव राजीव गांधी ने बताया कि 'कोरोना महामारी के चलते खेल बिल्कुल रुके हुए थे. इसके साथ ही हमारे भी कई खिलाड़ी और गोल्फ क्लब के सदस्य कोरोना से जंग लड़कर लौटे हैं. इन्हीं कोरोना वारियर्स और कोरोना सर्वाइवर के लिए इस प्रतियोगिता का आयोजन करवाया गया है.'

कोविड प्रोटोकाल का पूरा ख्याल
उन्होंने कहा, 'प्रतियोगिता में 100 से ज्यादा खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया है. गोल्फ ऐसा खेल हैं जिसमें फिजिकल टच नहीं होता है साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ख्याल रखा जाता है. हालांकि, प्रतियोगिता के दौरान कोरोना गाइडलाइन पालन का पूरा ध्यान रखा गया है.' 

सिर्फ पैसे वालों का खेल नहीं है गोल्फ
प्रतियोगिता के मुख्य अतिथि खेल मंत्री अशोक चांदना ने कहा, 'गोल्फ खेलने से शारीरिक और मानसिक तंदुरुस्ती मिलती है. साथ ही खिलाड़ी फीट रहते हैं. उन्होंने कहा कि जो लोग ये समझते हैं कि गोल्फ सिर्फ पैसों वालों का खेल है तो ये गलत है. जो खिलाड़ी है गोल्फ उनका खेल है.'