राजस्थान के पर्यटकों के लिए खुशखबरी, जल्द होगी रात्रिकालीन पर्यटन की शुरूआत

विश्व पर्यटन दिवस पर राजधानी के सभी स्मारकों और संग्रहालयों को पर्यटकों के लिए निशुल्क रखा जाएगा.

राजस्थान के पर्यटकों के लिए खुशखबरी, जल्द होगी रात्रिकालीन पर्यटन की शुरूआत
प्रतीकात्मक तस्वीर.

दामोदर प्रसाद, जयपुर: विश्व पर्यटन दिवस 27 सितंबर को लेकर पुरातत्व विभाग पर्यटकों के लिए खुशखबरी लेकर आया है. कल से राजधानी जयपुर के स्मारकों पर रात्रिकालीन पर्यटन की शुरूआत करने जा रहा है.

आमेर महल और अल्बर्ट हॉल संग्रहालय को विश्व पर्यटन दिवस से फिर से रात्रिकालीन पर्यटन के लिए पर्यटकों के भ्रमण के लिए शुरू करने का निर्णय लिया गया. पर्यटक पहले की तरह ही रात में भी इन ऐतिहासिक इमारतों को निहार सकेंगे. इस दौरान कोविड-19 के चलते केंद्र और राज्य सरकार की ओर से जारी दिशा-निर्देशों की पालना की जाएगी.

यह भी पढ़ें- राजस्थान में कोरोना को लेकर CM गहलोत का संवाद, नेताओं ने दी यह खास सलाह

कोरोना संक्रमण के चलते गत 18 मार्च से प्रदेश के सभी स्मारकों और संग्रहालयों को बंद कर दिया गया था. लॉकडाउन में छूट के बाद 2 जून से इन पर्यटन स्थलों को पर्यटकों के भ्रमण के लिए खोला जाएगा. अब विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर रात्रिकालीन पर्यटन के तहत स्मारकों पर पर्यटक भ्रमण कर सकेंगे.

पुरातत्व निदेशालय ने एक आदेश जारी कर बताया कि विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर नाहरगढ़ किले, आमेर महल और अल्बर्ट हॉल को रात्रिकाली भ्रमण के लिए खोलने का निर्णय लिया गया. आमेर महल को रात्रिकालीन समय शाम 7 बजे से रात 9 बजे खोला जाएगा तो वहीं नाहरगढ़ किले को भी रात 10 बजे खोला जाएगा. नाहरगढ़ दुर्ग स्थित माधवेंद्र भवन पर्यटकों के भ्रमण के लिए खोला जा रहा है. नियमानुसार टिकट भी जारी किया जाएगा. अगर रात्रिकालीन पर्यटन सफल रहता है तो अन्य गतिविधियां भी यहां धीरे-धीरे शुरू की जाएंगी.

पुरातत्व विभाग के अधिकारियों ने बताया कि किशनपोल बाजार स्थित विरासत संग्रहालय में पर्यटकों के भ्रमण के लिए नई वस्तुओं को डिस्प्ले किया जा रहा है. कई महीनों से बंद संग्रहालय भी 27 सितंबर विश्व पर्यटन दिवस को पर्यटकों के लिए खोला जाएगा. संग्रहालय में लघु चित्र, गैलेरी, प्रतिमा गैलेरी, वस्त्र परिधाम गैलेरी और कास्ट गैलेरी बनाई गई है, जहां कला से संबंधित कलाकारों की कला को प्रदर्शित किया जा रहा है.

विश्व पर्यटन दिवस पर राजधानी के सभी स्मारकों और संग्रहालयों को पर्यटकों के लिए निशुल्क रखा जाएगा. इसके लिए पुरातत्व विभाग की ओर से सभी तैयारियां कर ली गई है. स्मारक और संग्रहालयों पर पर्यटकों के पहुंचने पर पर्यटकों को माला, तिलक और पुष्प देकर स्वागत किया जाएगा. साथ ही अल्बर्ट हॉल के प्रथम तल पर द ममी को भी डिस्प्ले किया जाएगा, जिससे पर्यटक द ममी को निहार सकेंगे. इसके लिए पुरातत्व विभाग ने तीसरी बार द ममी की जगह बदली गई है. कोविड—19 के चलते केंद्र और राज्य सरकार द्वारा सभी प्रोटोकॉल की पालना की जाएगी. बिना फेस मास्क के पर्यटकों को प्रवेश नहीं दिया जाएगा. सेनेटाइज और सोशल डिस्टेंसिंग की पालना में सभी पर्यटकों को रखना होगा.