जयपुर: संविधान दिवस पर राज्यपाल कलराज मिश्र बोले- कर्तव्यों का करें निर्वहन

राज्यपाल मिश्र मंगलवार को इन्द्रलोक सभागार में अधिवक्ता परिषद, राजस्थान की ओर से संविधान पर राष्ट्रीय एकता एवं भारतीय संविधान वर्तमान परिप्रक्ष्य में विषयक संगोष्ठी को संबोधित कर रहे थे. राज्यपाल मिश्र ने दीप प्रज्ज्वलित कर समारोह का शुभारम्भ किया.

जयपुर: संविधान दिवस पर राज्यपाल कलराज मिश्र बोले- कर्तव्यों का करें निर्वहन
राज्यपाल मिश्र ने दीप प्रज्ज्वलित कर समारोह का शुभारंभ किया.

जयपुर: राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा है कि संविधान में राष्ट्रीय एकता का स्वरूप है. यह हमारा मार्ग दर्शक है. आमजन को संविधान की जानकारी होना आवश्यक है. उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय एकता, अखण्डता और सामाजिक समरसता के लिए कर्तव्यों का निर्वहन करना होगा, ताकि हमारी राष्ट्रीय एकता अक्ष्क्षुण बनी रहे. 

राज्यपाल मिश्र मंगलवार को इन्द्रलोक सभागार में अधिवक्ता परिषद, राजस्थान की ओर से संविधान पर राष्ट्रीय एकता एवं भारतीय संविधान वर्तमान परिप्रक्ष्य में विषयक संगोष्ठी को संबोधित कर रहे थे. राज्यपाल मिश्र ने दीप प्रज्ज्वलित कर समारोह का शुभारम्भ किया.

राज्यपाल ने कहा कि संविधान ही हमारे लिए गीता, वेद, मनुस्मृति है. उन्होंने कहा कि दुनिया की किसी भी ताकत से हमारी एकता को कोई खतरा नही है. राज्यपाल मिश्र ने कहा कि विश्वविद्यालायों में मूल कर्तव्यों का ज्ञान कराने के लिए अभिमान चलाया जायेगा. मिश्र का मानना था कि देश की युवा पीढी को मूल कर्तव्यों के बारे में बताया जाना आवश्यक है.

वहां संविधान के अनुच्छेद 51 क पर विचार - विमर्श करने के लिए गोष्ठियां व सेमीनार आयोजित की जावे. समारोह में न्यायाधिपति न्यायामूर्ति संजीव प्रकाश शर्मा ने कहा कि भारतीय संविधान में भारतीयता का दर्शन है. ऋग्वेद और अथर्ववेद में सभा और समिति का उल्लेख है. इस मौके पर अधिवक्तागण मौजूद थे.