कटारिया के राजस्थान सरकार गिराने के बयान पर डोटासरा का पलटवार, पहले अपना घर संभालें

डोटासरा ने कहा है कि कटारिया पहले अपना घर संभालें, उनके घर में क्या चल रहा है. उन्होंने कहा कि बीजेपी या उनके मनसूबे कभी पूरे नहीं होंगे. 

कटारिया के राजस्थान सरकार गिराने के बयान पर डोटासरा का पलटवार, पहले अपना घर संभालें
गोविंद सिंह डोटासरा.

देवेंद्र सिंह, भरतपुर: प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष एवं शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasra) ने बीजेपी के नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया (Gulab Chand Kataria) के छह माह में सरकार गिरने के बयान पर पलटवार करते हुए बड़ा बयान दिया है.

डोटासरा ने कहा है कि कटारिया पहले अपना घर संभालें, उनके घर में क्या चल रहा है. उन्होंने कहा कि बीजेपी या उनके मनसूबे कभी पूरे नहीं होंगे. यह राजस्थान है, कर्नाटक और मध्य प्रदेश नहीं. यहां अशोक गहलोत की सरकार पूरे 5 साल रहेगी.

यह भी पढ़ें- गुलाबचंद कटारिया के बयान पर मंत्री खाचरियावास का पलटवार, बोले- साजिश कामयाब नहीं हुई

जनता ने कांग्रेस पर विश्वास व्यक्त कर सत्ता सौंपी है. बीजेपी पहले भी षड्यंत्र कर चुकी है लेकिन उसे कभी कामयाबी नहीं मिली. आगे भी नही मिलेगी. अशोक गहलोत एक मजबूत जन नेता हैं. डोटासरा आज अपने एक दिवसीय दौरे पर भरतपुर में पत्रकारों से बात कर रहे थे. 

पीसीसी चीफ गोविंद डोटासरा ने कहा है कि गुलाब चंद कटारिया जी को लेकर उनकी पार्टी में बहुत नाराजगी है. उनकी पार्टी में ही उनको नेता प्रतिपक्ष के पद से हटाने की साजिश हो रही है. उनकी ही पार्टी के लोग यह कवायद कर रहे है. साथ ही उन्होंने बीजेपी पर निशाना साधा और कहा कि बीजेपी वाले यह बताए कि उनके मंचों से पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे क्यों गायब रहती हैं? कांग्रेस से जनता कड़ी से कड़ी जोड़ रही है. निकाय चुनाव हो या पंचायत चुनाव सब जगह कांग्रेस की कड़ी से कड़ी जुड़ रही है.

लोकतंत्र में सभी को अपनी बात रखने का हक 
पीसीसी चीफ गोविंद डोटासरा ने गुर्जरों के बाद अब जाटों के आंदोलन करने के ऐलान पर कहा कि गुर्जर समाज को कांग्रेस ने हक दिया लेकिन नवीं अनसूची में डालने का काम केंद्र का है. सरकार ने पहले भी केंद्र को पत्र लिखा है. गुर्जर हो जाट, हर वर्ग की वाजिब मांग पर कांग्रेस पार्टी ने हमेशा किया सहानुभूतिपूर्वक विचार किया है. लोकतंत्र में सभी को अपनी बात रखने का हक है लेकिन संवैधानिक दायरे में रहकर बात करनी चाहिए. 

गहलोत कैबिनेट से हटाए गए मंत्रियों के सवाल पर जोड़े हाथ
मंत्रिमंडल रि-शफ़ल में गहलोत कैबिनेट से हटाए गए मंत्रियों के पुनः कैबिनेट में लेने पर पत्रकारों के एक सवाल का जबाब देते हुए गोविंद डोटासरा ने हाथ जोड़कर कहा कि यह आलाकमान और मुख्यमंत्री का विशेष अधिकार है. वही इस पर फैसला करेंगे. गौरतलब है कि सचिन पायलट, विश्वेन्द्र सिंह और रमेश मीणा को गहलोत कैबिनेट से हटाया गया है.