गुर्जर आरक्षण आंदोलन 1 नवंबर तक स्थगित, कर्नल बैंसला ने सरकार को दिया 14 दिन का वक्त

कर्नल ने फसल बुवाई की वजह से सरकार को 14 दिन का वक्त दिया है.

गुर्जर आरक्षण आंदोलन 1 नवंबर तक स्थगित, कर्नल बैंसला ने सरकार को दिया 14 दिन का वक्त
देश में आरक्षण की चिंगारी तो आजादी के बाद से ही सुलग रही है.

जयपुर: राजस्थान में एक बार फिर से गुर्जर आरक्षण की चिंगारी उठने लगी है. भरतपुर के अड्डा गांव में हुई महापंचायत में कर्नल किरोड़ी ने 1 नवंबर से आंदोलन की चेतावनी दी है. सरकारी नौकरियों में 5 प्रतिशत आरक्षण की मांग पर अडे कर्नल बैंसला ने चक्का जाम का फैसला लिया है, जब तक 1 नवंबर तक आंदोलन स्थगित रहेगा.

1 नवंबर से चक्का जाम की चेतावनी
राजस्थान में एक बार फिर से गुर्जर आंदोलन की आग लगी है. भरतपुर के पीलूपुरा में हुई गुर्जर महापंचायत में गुर्जर आरक्षण समिति के मुखिया कर्नल किरोड़ी बैंसला ने ऐलान कर दिया कि यदि सरकार ने सरकारी नौकरियों में 5 प्रतिशत आरक्षण नहीं दिया तो राजस्थान में 1 नवंबर से चक्का जाम होगा. कर्नल ने फसल बुवाई की वजह से सरकार को 14 दिन का वक्त दिया है.

यह भी पढ़ें- देशभर की सरकारों में सबसे अच्छा काम कर रही राजस्थान की गहलोत सरकार, विदेश में चर्चे

कोरोना गाइडलाइंस की धज्जियां उड़ी, कर्नल पर होगी कार्रवाई
अड्डा गांव में गुर्जर महापंचायत में न तो कोरोना गाइड लाइंस का ध्यान रखा गया और न ही जिला प्रशासन ने परमिशन मांगी गई. राजस्थान महामारी अधिनियम के तहत केवल 100 लोगों को ही सभा करने की इजाजत थी लेकिन गुर्जर महापंचायत में सैकड़ों लोग शामिल हुए और कोरोना गाइड लाइंस की धज्जियां उड़ती रहीं. ऐसे में क्या जिला कलक्टर कर्नल किरोड़ी बैंसला या और गुर्जर नेताओं पर कार्रवाई करेंगे. पूरे मामले को शांत करने के लिए मंत्री अशोक चांदना सरकार की तरफ से समझौत पत्र लेकर बयाना पहुंचे. हर बार की तरह इस बार भी आईएएस नीरज के पवन गुर्जरों और सरकार के बीच मध्यस्थता करते हुए दिखाई दिए.

11 प्रक्रियाधीन में आरक्षण दे सरकार
राज्य में 11 प्रक्रियाधीन भर्तियों को लेकर विवाद जारी है. प्रक्रियाधीन भर्ती में 4 प्रतिशत और आरक्षण का लाभ मिलने की गुर्जर समाज मांग कर रहा है. इन भर्तियों में रीट भर्ती 2018, पुलिस भर्ती 2018, पंचायतीराज एलडीसी भर्ती 2013, कमर्शियल असिस्टेंट 2018, नर्सिंग भर्ती 2018, पैरामेडिकल भर्ती 2018, टेक्निकल हेल्पर 2018, जेल प्रहरी 2018 एएनएम- जीएनएम भर्ती 2018 और बैकलॉग की भर्तियों में 4 फ़ीसदी आरक्षण की मांग की जा रही है. इन भर्तियों में एमबीसी वर्ग को 1 फ़ीसदी आरक्षण पहले ही मिल चुका है. इसके साथ बैकलॉग की भर्तियों में गुर्जर समाज आरक्षण की मांग कर रहा है. इसके अलावा पिछले गुर्जर आंदोलन में विधवा हुई महिलाओं को सरकारी नौकरी की मांग है.

आरक्षण की आग में 6 दफा झुलसा राजस्थान
देश में आरक्षण की चिंगारी तो आजादी के बाद से ही सुलग रही है, मगर राजस्थान में गुर्जर आंदोलन की चिंगारी सबसे पहले वर्ष 2006 में भड़की. तब से लेकर अब तक रह-रहकर छह बार बड़े आंदोलन हो चुके हैं. एसटी में शामिल करने की मांग को लेकर पहली बार गुर्जर राजस्थान के हिंडौन में सड़कों और रेल पटरियों पर उतरे थे.

इसके बाद 21 मई 2007 फिर आंदोलन का ऐलान कर दिया. गुर्जर आंदोलन 2007 के लिए पीपलखेड़ा पाटोली को चुना गया.यहां से होकर गुजरने वाले राजमार्ग को जाम कर दिया. इस आंदोलन में 28 लोग मारे गए थे. इसके बाद 23 मार्च 2008 को भरतपुर के बयाना में पीलुकापुरा ट्रैक पर ट्रेनें रोकी. 2008 के बाद दो बार और गुर्जर आंदोलन हुआ. 24 दिसम्बर 2010 और 21 मई 2015 में. इसके बाद 2019 में सवाईमाधोपुर के मलारना में ट्रेन की पटरियां रोककर आंदोलन हुआ.

देंवेद्र सिंह