close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: राज्यपाल के अभिभाषण के दौरान हनुमान बेनीवाल ने विधानसभा में किया जमकर हंगामा

इस दौरान खींवसर विधायक बेनीवाल ने किसानों के मुद्दे पर गहलोत सरकार और पूर्व की वसुंधरा सरकार पर कई गंभीर आरोप लगाए.

राजस्थान: राज्यपाल के अभिभाषण के दौरान हनुमान बेनीवाल ने विधानसभा में किया जमकर हंगामा
विधानसभा में हंगामे के कारण राज्यपाल अपना अभिभाषण पूरा नहीं कर पाए. (फोटो साभार: twitter/hanumanbeniwal)

जयपुर: राज्य विधानसभा के पहले सत्र ( Rajasthan vidhansabha seesion) के तीसरे दिन (17 जनवरी) को राज्यपाल के अभिभाषण के दौरान विधायक हनुमान बेनीवाल ने वेल में आकर जमकर हंगामा किया. जिस कारण राज्यपाल कल्याण सिंह अपना अभिभाषण पूरा नहीं कर पाए. वहीं, विपक्ष के नेताओं ने बेनीवाल के सदन के अंदर किए इस व्यवहार की आलोचना की.

राज्य विधानसबा में विरोध के दौरान बेनीवाल ने राज्य के किसानों से सरकार के द्वारा अब तक मूंग की खरीद नहीं होने पर सरकार की मंशा पर सवाल उठाया. बेनीवाल का कहना था कि वो राज्यपाल के अभिभाषण का विरोध नहीं कर रहे है. लेकिन किसानों के मुद्दे पर राज्य सरकार ने अब तक कुछ नहीं किया है. इस दौरान उन्होंने पूर्व वसुंधरा सरकार पर भी कई गंभीर आरोप लगाएं.

उन्होंने कहा, ''वसुंधरा सरकार ने भी अपने कार्यकाल के दौरान किसानों की समस्याओं को सुलझाने का प्रयास नहीं किया.''  बेनीवाल के आरोपों पर विपक्ष ने भी कड़ा ऐतराज जताया है. सदन में उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने बेनीवाल पर सदन की मर्यादा को तार-तार करने का आरोप लगाया.

विधानसभा वेल में बेनीवाल के लगातार विरोध और हंगामे के कारण राज्यपाल अपना अभिभाषण पूरा नहीं कर पाएं. जिसके बाद विधायक शांति धारीवाल ने राज्यपाल का अभिभाषण पढ़ा हुआ माना जाने का प्रस्ताव सदन के सामने रखा. विधानसभा वेल में हो रहे इस हंगामें के दौरान खींवसर विधायक बेनीवाल के अलावा उनकी पार्टी के दो अन्य विधायक और Cpm के विधायक भी मौजूद थें. 

आपको बता दें कि, अपनी नवगठित राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी से 2018 का विधानसभा चुनाव लड़ने वाले बेनीवाल का नागौर और उसके आस पास के क्षेत्रों में काफी प्रभाव रहा है. विधानसभा चुनाव के दौरान बेनीवाल के अलावा उनकी पार्टी के 2 अन्य विधायक भी इस बार चुनाव जीतने में कामयाब हुए है. 

माना जा रहा है कि राज्य विधानसभा के पहले सत्र के दौरान बेनीवाल के इस हंगामे के कारण सदन के पहले सत्र में भी काफी व्यवधान आया है.