हनुमानगढ़: जिला अस्पताल में अव्यवस्थाओं का आलम, मरीजों को नहीं मिल रहे बेड

अस्पताल में अव्यवस्थाओं के आलम और बरती जा रही लापरवाही को लेकर वार्ड में मरीजों का इलाज कर रहे नर्सिंग स्टाफ का कहना है कि कई बार अस्पताल प्रशासन को इस बारे में बताया गया है 

हनुमानगढ़: जिला अस्पताल में अव्यवस्थाओं का आलम, मरीजों को नहीं मिल रहे बेड

मनीष शर्मा, हनुमानगढ़: एक तरफ राज्य सरकार प्रदेश में आमजन को बेहतर चिकित्सा सुविधाएं मुहैया करवाने के दावे कर रही है. वहीं हनुमानगढ़ के जिला अस्पताल में इलाज करवाने आए मरीजो को इलाज के लिए बेड तक नसीब नहीं हो पा रहे हैं. हालात ये हैं कि यहां आने वाले मरीज कुर्सी और स्ट्रेचर पर इलाज करवाने को मजबूर हो गए हैं.

प्रदेश सरकार के आमजन को बेहतर चिकित्सा सुविधा मुहैया करवाने के दावों के बीच हनुमानगढ़ में जिला अस्पताल से शर्मशार करने वाला मंजर सामने आया है. प्रदेशभर में मौसमी बीमारियों की दस्तक के बाद यहां इलाज के लिए संचालित वार्ड सी में 22 बेड की उपलब्धता के बीच 45 से ज्यादा मरीज इलाज करवा रहे है. अस्पताल में हालात ये हैं कि यहां कई गंभीर बीमारियों से ग्रसित मरीजों को भी बेड नहीं मिल पा रहा है. अस्पताल में कुछ मरीज़ कुर्सी पर तो कुछ स्ट्रेचर पर इलाज करवाने को मजबूर हो गए हैं.

अस्पताल में अव्यवस्थाओं के आलम और बरती जा रही लापरवाही को लेकर वार्ड में मरीजों का इलाज कर रहे नर्सिंग स्टाफ का कहना है कि कई बार अस्पताल प्रशासन को इस बारे में बताया गया है लेकिन अब तक हालात जस के तस है. जहां एक ओर बेड तक उपलब्ध नहीं होने से मरीज बेहद परेशान हो रहे हैं, वहीं दूसरी ओर अस्पताल प्रशासन इस लापरवाही के मानने तक को तैयार नजर नहीं आता. जिला अस्पताल के उप नियंत्रक डॉ गौरीशंकर जिला अस्पताल की अव्यवस्थाओं पर पर्दा डालते हुए नजर आए.

जिले के सबसे बड़ा अस्पताल होने के बावजूद भी जिला अस्पताल में ये हालात चिंताजनक हैं. वहीं अस्पताल में स्ट्रेचर और कुर्सी पर इलाज करवा रहे मरीज प्रदेश की चिकित्सा व्यवस्था पर गंभीर प्रश्न चिन्ह खड़ा कर रहे है. ऐसे में अब देखने वाली बात ये है कि जिला अस्पताल प्रशासन कब तक मरीजो को राहत दे पाता है.