राजस्थान: Lockdown में दो विभाग डटकर कर रहे चुनौतियों का सामना, इस तरह कर रहे काम

बॉर्डर इलाके और देश में लॉकडाउन होने के बाद से गुजरात सें हजारों की संख्या में मजदुर और वहां काम करने वाले लोगों का जिले में आना लगातार जारी है.   

राजस्थान: Lockdown में दो विभाग डटकर कर रहे चुनौतियों का सामना, इस तरह कर रहे काम
दो ही विभाग ऐसे हैं जो इस कोरोना वायरस के सामने डट कर सामना कर रहे हैं.

अजय ओझा/बांसवाड़ा: पूरा देश कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर अलर्ट मोड पर है. वहीं, केंद्र सरकार ने देश में 21 दिन का लॉकडाउन (Lockdown) कर दिया है. इस लॉकडाउन में दो ही विभाग ऐसे हैं जो इस कोरोना वायरस के सामने डट कर सामना कर रहे हैं.

जी हां, हम बात कर रहे हैं चिकित्सा और पुलिस विभाग की. दरअसल, बांसवाड़ा जिला बॉर्डर इलाके और देश में लॉकडाउन होने के बाद से गुजरात सें हजारों की संख्या में मजदुर और वहां काम करने वाले लोगों का जिले में आना लगातार जारी है. वहीं, मोनाडूंगर बॉर्डर पर चिकित्सा विभाग की टीम पिछले 15 दिनों से वहां पर बांसवाड़ा आने वाले लोगों की जांच कर रही है.

साथ ही पुलिस इनका पूरा साथ दे रही है. अब तक यहां पर हजारों की संख्या में गुजरात से लोग बांसवाड़ा की ओर आ रहे हैं. कुछ लोग पेैदल भी आ रहे हैं, जिनकी चिकित्सा टीम पूरी चेकिंग कर रहा है और जांच भी की जा रही है. पूरे 24 घंटे यह टीम लगातार यहा पर काम कर रही हैं.

वहीं, गुजरात से जो गरीब लोग पैदल आ रहे हैं, वो भुखे हैं, उनके भोजन के लिए गांगडतलाई प्रधान सुभाष तंबोलिया, सल्लोपाट थाना अधिकारी नागेन्द्र सिंह, सल्लोपाट चिकित्सालय प्रभारी डां भगतसिंह तंबोलिया भामाशाह की मदद से इनके खाने का इंतजाम कर रहे हैं. अब तक यहां पर हजारों भूखे लोगों को र्बोर्डर पर खाना खिला चुके हैं और जो भी लोग आ रहे हैं उन्हें रात व दिन दोनों समय पर खाना लिखाया जा रहा हैं.

इतना ही नहीं जो पैदल लोग आ रहे हैं, उनके लिए यहा पर निजी वाहन लगाए गए हैं. जबकि आसपास के गांव के जो लोग हें उन्हें वहा पर भिजवाया जा रहा है.