close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: गोविंददेव मंदिर में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम, जन्माष्टमी पर उमड़ी भक्तों की भीड़

गुलाबी नगरी जयपुर के प्रसिद्ध गोविंद देव मंदिर में कृष्ण जन्माष्टमी के मौके पर पूरे प्रदेश से भक्त दर्शन के लिए पहुंच रहे हैं.

जयपुर: गोविंददेव मंदिर में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम, जन्माष्टमी पर उमड़ी भक्तों की भीड़
मंदिर में दर्शन के लिए मौजूद भीड़.

जयपुर: जयपुर के प्रसिद्ध गोविंददेवजी मंदिर में कृष्ण जन्माष्टमी के दौरान में पूरे प्रदेश से भगवान के दर्शन के लिए भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ी. इस दौरान मंदिर प्रशासन और पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था को चाक-चौबंद रखने का प्रयास किया.

जन्माष्टमी त्योहार के लिए 3000 कार्यकर्ताओं (Volunteers) ने मंदिर में अपनी सेवा दी है. इसके अलावा सुरक्षा के लिए 800 पुलिसकर्मी भी तैनात हैं. बताया जा रहा है कि इस दौरान दो लाख निशुल्क सागारी लड्डू और 50 हजार पंजीरी के पैकेट्स बांटे गए हैं. इसके अलावा सुरक्षा व्यवस्था को पुख्ता करने के लिए तीन दर्जन सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए हैं, जिससे भीड़ पर नियंत्रण रखा जा सके.

सुरक्षा के हैं पुख्ता इंतजाम
सूत्रों के अनुसार, मंदिर में भीड़ का दबाव कम करने के लिए 8 बैरियर भी लगाए गए हैं. इसके साथ त्वरित राहत बल की भी एक टुकड़ी तैनात की गई है. इसके अलावा मंदिर परिसर में आठ और बाहर चार मेटल डिटेक्टर भी लगा है.

दोपहर में भी मनाया गया जन्मोत्सव
इस दौरान शहर के कई मंदिरों में रात की बजाय दोपहर 12 बजे भगवान का जन्म हुआ. जयपुर के चौड़ा रास्ता स्थित राधा-दामोदर मंदिर में भगवान का दोपहर 12 बजे महंत मलय गोस्वामी ने अभिषेक किया. अभिषेक के बाद भगवान को फूल बंगला में विराजमान किया गया. शाम को मंदिर परिसर में नंदोत्सव मनाया गया. भगवान के बधाई गान भी गाए गए. 

रात 12 बजे होगा प्रभु का जन्म
गोविंददेवजी मंदिर में शनिवार रात 10 से 11 बजे तक कृष्ण जन्माष्टमी की कथा होगी. रात 12 बजे जैसे ही प्रभु जन्म होगा 31 तोपों की सलामी के साथ आतिशबाजी का भगवान कृष्ण का स्वागत किया जाएगा. इसके बाद महंत अंजन कुमार गोस्वामी पंचद्रव्यों से भगवान का स्नान कराएंगे. इस दौरान भगवान का पंचामृत अभिषेक कर भोग लगाया जाएगा. 

LIVE TV देखें

25 अगस्त को शुरू होगा नंदोत्सव और शोभा यात्रा
इस दौरान भक्तों के दर्शन के लिए रात एक बजे तक मंदिर के द्वार खुले रहेंगे. रविवार (25 अगस्त) को मंदिर में सुबह 9.15 बजे और इस्कॉन मंदिर में 9.30 बजे से नंदोत्सव शुरू होगा. जगतपुरा स्थित कृष्ण-बलराम मंदिर, चांदनी चौक स्थित आनंद कृष्ण बिहारी मंदिर सहित कई अन्य मंदिरों में भी नंदोत्सव होगा. इसके अलावा इसी दिन शोभायात्रा भी निकलेगी.

इन रास्तों से गुजरेगी शोभायात्रा
गोविंददेवजी मंदिर से मंगलवार को शाम 4 बजे शोभायात्रा निकाली जाएगी. इस बार यात्रा में 20 झांकियां शामिल होंगी. यात्रा जलेब चौक, हवामहल बाजार, बड़ी चौपड़, जौहरी बाजार, बापू बाजार, चौड़ा रास्ता, त्रिपोलिया, छोटी चौपड़, चांदपोल बाजार, बगरूवालों का रास्ता होते हुए गोपीनाथजी के मंदिर पहुंचेगी.