close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चित्तौड़गढ़ में मुसलाधार बारिश से लोग बेहाल, कुकड़ेश्वर मंदिर भी हुआ क्षतिग्रस्त

शनिवार को बिजली गिरने के कारण प्राचीन कुकडेश्वर मंदिर का गुंबद धराशायी हो गया और मंदिर क्षतिग्रस्त हो गया. 

चित्तौड़गढ़ में मुसलाधार बारिश से लोग बेहाल, कुकड़ेश्वर मंदिर भी हुआ क्षतिग्रस्त
मंदिर की हालत को देखकर लोगों ने पुरातत्व विभाग को सूचित किया गया.

चित्तौड़गढ़: उदयपुर के चित्तौड़गढ़ में पिछले एक पखवाड़े से मानसून की सक्रियता बनी हुई है. वहीं मुसलाधार बारिश के कारण आम नजजीवन खासा प्रभावित हो रहा है.वहीं शनिवार को बिजली गिरने के कारण प्राचीन कुकडेश्वर मंदिर का गुंबद धराशायी हो गया और मंदिर क्षतिग्रस्त हो गया. बिजली गिरने की जानकारी मिलने पर दुर्गवासी मंदिर पहुंचे जहां के हालात देखकर पुरातत्व विभाग को सूचित किया गया. 

गनीमत यह रही कि बिजली गिरने का प्रभाव मंदिर के उपर तक रहा जिससे कोई जनहानि नहीं हुई. लेकिन इस घटना के चलते लोगों में कुछ देर के लिए दहशत का माहौल जरूर रहा. दूसरी ओर तेज बारिश के चलते शहर के सुभाष चैक, अप्सरा चैराहा, प्रतापनगर क्षेत्र की सड़कें जलमग्न हो गई. साथ ही बेड़च नदी के वेग से बहने के कारण कपासन मार्ग स्थित बोडियाना नाले में यात्रियों से भरी अजमेर डिपो की रोडवेज बस फंस गई. सूचना पर सिविल डिफेंस टीम के सदस्यों ने मौके पर पहुच यात्रियों को बस से सुरक्षित निकालने के राहत कार्य प्रारंभ किया. इधर नाले में पानी की लगातार आवक के चलते कई गांव से संपर्क टूट गया.

वहीं बांसवाडा जिले के कई गांवों में सुबह से ही तेज बरसात का दौर अब भी जारी है. जिले के घाटोल कस्बे में सुबह 10 बजे से हो रही तेज बरसात ने लोगो को भारी परेशानी में डाल दिया है. कस्बें में तेज बरसात के कारण सड़को पर 2-2 फिट पानी भर गया जिसके कारण से सड़के नदियों में तब्दील नजर आ रही है. इतना ही नहीं कहीं कहीं तो पानी घरों व दुकानों में घुस गया. 

गौरतलब है कि प्रदेश के कई इलाकों में कमर तक पानी बह रहा है इसके चलते लोगों का घर से बाहर निकलना भी दूभर हो गया है. बारिश के चलते तमाम दुकानें बंद है और कई इलाकों में तो कर्फ्यू जैसे हालात बने हुए हैं. लगातार हो रही बारिश के बाद जिला प्रशासन ने भी अलर्ट जारी कर दिया है.