राजस्थान रॉयल्स को लग सकता है बड़ा झटका, गुवाहाटी में मैच कराने को लेकर टली सुनवाई

राजस्थान रॉयल्स के अपने कुछ घरेलू मैचों को स्थानांतिरत करने के फैसले के खिलाफ जनहित याचिका दाखिल की गई थी. जिस पर उच्च न्यायालय को गुरुवार को फैसला देना था.

राजस्थान रॉयल्स को लग सकता है बड़ा झटका, गुवाहाटी में मैच कराने को लेकर टली सुनवाई
कुछ मैच गुवाहाटी में कराने के प्लान को झटका लग सकता है.

जयपुर: राजस्थान रॉयल्स के इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) 2020 के कुछ मैच गुवाहाटी में कराने के प्लान को झटका लग सकता है. राजस्थान उच्च न्यायालय ने इस मामले की सुनवाई 17 मार्च तक के लिए टाल दी है.

राजस्थान रॉयल्स के अपने कुछ घरेलू मैचों को स्थानांतिरत करने के फैसले के खिलाफ जनहित याचिका दाखिल की गई थी. जिस पर उच्च न्यायालय को गुरुवार को फैसला देना था, लेकिन अब मामले की सुनवाई 17 मार्च तक के लिए स्थगित कर दी गई है.

बीसीसीआई ने हालांकि फ्रेंचाइजी के फैसले का समर्थन किया था और साफ तौर पर कहा था कि दूसरे गृहनगर की अपील करने में फ्रेंचाइजी ने किसी भी तरह से नियमों का उल्लंघन नहीं किया है.

कुछ दिन पहले जारी किए गए कार्यक्रम के मुताबिक, रॉयल्स की टीम को दो अप्रैल को चेन्नई सुपर किंग्स और पांच अफ्रैल को दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ खेलना है. यह दोनों मैच या तो जयपुर या गुवाहाटी में आयोजित होने हैं.

इसके बाद नौ अप्रैल को रायल्स को जयपुर या गुवाहाटी में कोलकाता नाइट राइडर्स की मेजबानी करनी हैं. अब जबकि सुनवाई की तारीख आगे बढ़ गई है, ऐसे में फ्रेंचाइजी को मैच के इंतजामात करने में परेशानी आ सकती है. इससे पहले, फ्रेंचाइजी के एक अधिकारी ने मीडिया से कहा था कि टीम के कुछ मैच गुवाहाटी में आयोजित करने के पीछे कई कारण हैं और यह सिर्फ कमाई के लिए नहीं किया जा रहा है

उन्होंने कहा, 'इसमें कोई छुपाने वाली बात नहीं है कि जो कमाई की जाएगी वो एक मुद्दा है, लेकिन यह हमारे घर के मैच गुवाहाटी ले जाने का एक मात्र कारण नहीं है. हम खेल को पूर्वोत्तर के इलाके में बढ़ाना चाहते हैं. गुवाहाटी में कई लोग राजस्थान के भी हैं और हमें लगता है कि अगर वे लोग अपने पसंदीदा खिलाड़ियों को सामने देख सकेंगे तो यह अच्छा होगा'.

अधिकारी ने कहा, 'इसके अलावा, हम पूर्वोत्तर में जमीनी स्तर पर काम करने को लेकर प्रतिबद्ध हैं. आप देख सकते हैं कि वहां अकादमियां खोली जा चुकी हैं. इसलिए हम स्थानीय खिलाड़ियों के पास खेल को ले जा रहे हैं. यह मत भूलिए कि रियान पराग स्थानीय खिलाड़ी हैं जो स्टार हैं. हम किसी के खिलाफ नहीं हैं और हम समझते हैं कि अदालत भी हमें समझेगी कि हम कुछ मैच बाहर ले जाकर किसी की भावना को ठेस नहीं पहुंचा रहे हैं'.

(इनपुट-आईएएनएस)