close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

हाईटेक हुई जोधपुर पुलिस, यातायात की जिम्मेदारी संभालने वाले कर्मियों को दिए गए कैमरे

यातायात पुलिस केवल वाहन यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों के चालान काटती है और ऐसे वाहन चालक जो नियमित रूप से यातायात नियमों का पालन करते हैं

हाईटेक हुई जोधपुर पुलिस, यातायात की जिम्मेदारी संभालने वाले कर्मियों को दिए गए कैमरे
प्रतीकात्मक तस्वीर

अरुण हर्ष, जोधपुर: बदलते समय के साथ जोधपुर कमिश्नरेट पुलिस भी हाईटेक होने की दिशा में कदम बढ़ा रही है. जोधपुर कमिश्नरेट प्रणाली लागू होने के बाद जोधपुर शहर के सभी चौराहों पर 500 से अधिक कैमरे लगाकर अपराधियों पर प्रभावी रोकथाम के प्रयास किए गए. साथ ही यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों पर भी शिकंजा कसने का प्रयास किया गया है. 

हाईटेक होने की दिशा में एक और कदम बढ़ाते हुए अब कमिश्नरेट पुलिस ने यातायात पुलिसकर्मियों को भी हाईटेक किया है. आमतौर पर ड्यूटी के दौरान यातायात पुलिसकर्मियों पर वाहन चालकों द्वारा अवैध रूप से वसूली करने, रिश्वत मांगने, अनावश्यक रूप से परेशान करने जैसे आरोप लगाते हैं. कई बार यह आरोप सही नहीं होते हैं लेकिन इसके बावजूद भी यातायात पुलिसकर्मियों को इसकी सजा भुगतनी पड़ती है, लेकिन अब यातायात पुलिसकर्मियों और थाने में डिजिटल कैमरे दिए गए हैं. 

यह डिजिटल कैमरे यातायात पुलिसकर्मियों की जेब में रहेंगे और पूरी ड्यूटी ऑवर होने तक इनमें रिकॉर्डिंग होगी. कैमरा में होने वाली यह रिकॉर्डिंग कंट्रोल रूम में लगे सर्वर पर सेव होगी. डीसीपी यातायात रवि कुमार ने बताया कि ट्रैफिक व्यवस्थाओं को सुचारू करने के लिए कई नवाचार किए गए हैं.

यातायात पुलिस केवल वाहन यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों के चालान काटती है और ऐसे वाहन चालक जो नियमित रूप से यातायात नियमों का पालन करते हैं उनके घर तक प्रशंसा पत्र भी पहुंचाती है. यातायात पुलिस के इस निर्णय से यातायात नियमों की पालना की जागृति आई है. वहीं अब इस कड़ी में यातायात पुलिसकर्मियों को डिजिटल कैमरे दिए गए हैं ताकि किसी भी विवाद होने की दिशा में इन कैमरों की रिकॉर्डिंग को जांचा जा सकेगा, इससे यातायात कर्मियों की कार्यप्रणाली में भी सुधार होगा. वहीं वाहन चालकों द्वारा लगाए जाने वाले आरोपी की प्रमाणिकता सिद्ध होगी.

डिजिटल कैमरे मिलने के बाद यातायात पुलिसकर्मी भी अब पूरी मुस्तैदी के साथ अपनी ड्यूटी का निर्वहन कर रहे हैं. पुलिस ने बताया कि ड्यूटी के दौरान उन्हें कई बार विपरीत परिस्थितियों से गुजरना पड़ता है. प्रभावी रूप से ड्यूटी करने के बावजूद वाहन चालक चालान काटने के दौरान उन पर वाहन चालकों द्वारा झूठे आरोप लगाए जाते हैं लेकिन अब कैमरे की रिकॉर्डिंग से इन आरोपों की सत्यता को परखा जा सकेगा और वह अपना काम बेहतर तरीके से अंजाम दे पाएंगे. वहीं यातायात पुलिस द्वारा चालान के दौरान कैमरे लगाने से लोगों में भी जागरुकता आएगी और वह भी सही तरीके से अपना पक्ष पुलिस के सामने रख सकेंगे. जिसे लोग भी पसंद कर रहे हैं.