जयपुर: हाथी गांव में केरल में हथिनी के लिए श्रद्धांजलि कार्यक्रम, दिया ये संदेश

केरल में हथिनी के साथ हुई हैवानियत इंसानियत को शर्मसार कर दिया है.

जयपुर: हाथी गांव में केरल में हथिनी के लिए श्रद्धांजलि कार्यक्रम, दिया ये संदेश
आमेर के हाथी गांव में हाथी मालिकों और महावतों द्वारा श्रद्धांजलि कार्यक्रम आयोजित किया गया.

दामोदर प्रसाद, जयपुर: केरल में हथिनी के साथ हुई हैवानियत इंसानियत को शर्मसार कर दिया है. आमेर के हाथी गांव में हाथी मालिकों और महावतों द्वारा श्रद्धांजलि कार्यक्रम आयोजित किया गया. हाथी मालिक व महावतों ने दिवगंत हथिनी फोटो चित्र पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी. 

वहीं, हाथी गांव में मौजूद हाथियों ने भी भावभीन फोटो चित्र पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि दी. साथ ही हाथियों ने सूंड उठाकर दिवंगत हथिनी को सलामी दी. केरल में अनानास फल में विस्फोटक पदार्थ खिलाकर बेजुबान गर्भवती हथिनी सौम्या के साथ हैवानियत की घटना की. 

हाथी पालकों और महावतों ने कहा कि हम सदियों से हाथियों को पालते हैं. इस घटना ने इंसानियत को शर्मसार कर दिया है. एक तरफ वह लोग हैं जो यह निंदनीय घटना को अंजाम तक पहुंचा रहे हैं. दूसरी ओर जयपुर के ये हाथी पालक है जो कोरोना काल में एक वक्त भूखे रहकर अपने हाथियों को परिवार के सदस्यों की तरह पालन पोषण कर रहे हैं. 

70 दिन के लॉक डाउन में हाथी पालकों ने इन हाथियों के पालन पोषण के लिए कर्जा लेकर पेट भर रहे हैं. हाथी पालकों ने कहा कि पहले ये हाथी, हाथी मालिकों व महावतों के परिवार का पेट पालते थे, लेकिन इस संकट की घड़ी में अपनी मानवता निभाते हुए इन हाथियों के पेट पालन के लिए रोजाना करीब ₹3000 एक हाथी पर खर्च कर हाथियों का पेट पाल रहे हैं.

ये भी पढ़ें: लॉकडाउन में बेरोजगारी के बीच महंगाई का प्रहार, जानिए क्या-क्या हुआ महंगा?