गृह मंत्रालय ने की देश की सीमा से लगती विदेशी बॉर्डर पर निर्माण कार्यों की समीक्षा

भारत-चीन, भारत-बांग्लादेश और भारत-पाक बॉर्डर पर सड़क तथा अन्य कार्यों पर विस्तार से चर्चा की गई. 

गृह मंत्रालय ने की देश की सीमा से लगती विदेशी बॉर्डर पर निर्माण कार्यों की समीक्षा
प्रतीकात्मक तस्वीर.

विष्णु शर्मा, जयपुर: गृह मंत्रालय की हाई लेवल एम्पावर्ड कमेटी की 48वीं बैठक हुई. बैठक में देश की सीमा से लगती विदेशी बॉर्डर पर निर्माण कार्यों की समीक्षा की गई. इसमें भारत-चीन, भारत-बांग्लादेश और भारत-पाक बॉर्डर पर सड़क तथा अन्य कार्यों पर विस्तार से चर्चा की गई. 

केंद्रीय गृह सचिव की अध्यक्षता में हुई इस हाई लेवल एम्पावर्ड कमेटी की बैठक में बॉर्डर राज्यों के गृह विभाग अधिकारी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जुड़े. राजस्थान से गृह सचिव एनएल मीणा, वरिष्ठ उप सचिव गृह भवानी शंकर, अतिरिक्त निदेशक ग्रामीण विकास विभाग हाई लेवल एम्पावर्ड कमेटी की बैठक से जुड़े. बैठक में बॉर्डर कार्यों की समीक्षा के साथ ही एक्शन-टेकन रिपोर्ट पर भी चर्चा की गई. साथ ही पिछली हाई लेवल कमेटी बैठक में आए बिंदुओं की क्रियान्वति  पर विस्तार से चर्चा की गई. 

- इंडो-बांग्लादेश बॉर्डर
- त्रिपुरा में बॉर्डर पर बेलारदेप्पा आउट पोस्ट, श्रीरामपुर आउट पोस्ट, धानपुर आउटपोस्ट, राधा नगर आउट पोस्ट को जोड़ने वाली 128 किलोमीटर सड़क पर जगह-जगह गड्ढे हैं.
- इन गड्ढों की मरम्मत के लिए 39 करोड़ का संभावित खर्च बताया गया है.
- बांग्ला-भारत बॉर्डर पर आसाम बीएसएफ की ओर से बनाए जा रहे पुल, फेंसिंग आदि पर एक करोड़ 96 लाख का खर्च बताया है.
- मिजोरम में करमाफुली नदी पर बनने वाले ब्रिज की डीपीआर तैयार. पुल पर 34 लाख से ज्यादा राशि खर्च होगी.
- पश्चिम बंगाल क्षेत्र में रानी नगर, जलपईगुड़ी  में 14 किलोमीटर क्षेत्र में फेंसिंग लगाई जाएगी. इस पर 26 करोड 21 लाख का संभावित खर्च बताया गया है.
- बादामबाडी आउट पोस्ट पर भूस्खलन के कारण क्षतिग्रस्त हुए स्ट्रक्चर के निर्माण की जरूरत बताई गई. इस निर्माण पर 2 करोड़ 31 लाख रुपये संभावित खर्च आएगा.

इंडो-पाकिस्तान बॉर्डर 
- राजस्थान क्षेत्र में 715 किलोमीटर बॉर्डर पर फ्लड लाइटिंग लगाना है. इस पर 2 अरब 4 करोड़ का संभावित खर्च बताया गया है.
- राजस्थान में ही बीकानेर क्षेत्र में 64 किलोमीटर दूरी में बॉर्डर के सहारे समानंतर सड़क बनाई जाएगी. इसकी डीपीआर तैयार करवाई जा रही है और इस निर्माण पर 52 करोड़ 88 लाख का संभावित खर्च बताया गया है.
- बॉर्डर पर  जैसलमेर के नॉर्थ और साउथ सेक्टर में 139 किलोमीटर से ज्यादा एक्सियल रोड्स बननी है. इस पर 222 करोड़ का खर्च आना संभावित है.
- पंजाब के अबोहर, अमृतसर और फिरोजपुर सेक्ट में एक्सियल रोड निर्माण के लिए डीपीआर तैयार की गई है. इस क्षेत्र में 28 किलोमीटर से ज्यादा क्षेत्र में बनने वाली रोड पर 28 करोड़ से ज्यादा खर्च बताया गया है.
- जम्मू फ्रंटियर बॉर्डर पर कैमेरा, खंभे लगाने के लिए 3 करोड़ 67 लाख रुपये की जरूरत बताई गई है
- जैसलमेर में बॉर्डर पर 35 किलोमीटर रेत के टीलों को शिफ्ट करने के लिए  49 करोड़ से ज्यादा बजट खर्च होगा. 

इंडो-नेपाल बॉर्डर 
-बिहार में पारसा से अखरारघाट तक सड़क बनाने के लिए 42 करोड़ 39 लाख का रिवाइज एस्टीमेट बताया गया है.