राजस्थान: घर-घर जागरूक करने वाली आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का ये कैसा हाल

राजस्थान की दो लाख से ज्यादा आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर जाकर लोगों को जागरूक कर रही हैं कि कोरोना से लड़ने के लिए वे अपने स्वास्थ्य का जरूर ध्यान रखें...

राजस्थान: घर-घर जागरूक करने वाली आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का ये कैसा हाल
प्रतीकात्मक तस्वीर

जयपुर: राजस्थान की दो लाख से ज्यादा आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर जाकर लोगों को जागरूक कर रही हैं कि कोरोना वायरस (Coronavirus) से लड़ने के लिए वे अपने स्वास्थ्य का जरूर ध्यान रखें, लेकिन इन सबके बीच लाखों आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को कोरोना संक्रमण का खतरा मंडरा रहा है. 

प्रदेश की आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को आईसीडीएस विभाग की तरफ से ना तो मास्क उपलब्ध करवाए जा रहे हैं और ना ही सैनिटाइजर की कोई भी व्यवस्था की जा रही है. ऐसे में उन पर संक्रमण का खतरा मंडराता साफ तौर पर दिखाई दे रहा है. क्योंकि वह घर-घर जाकर सर्वे का काम कर रही है, लेकिन ऐसे में यदि किसी भी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को संक्रमण फैलता है तो उसका जिम्मेदार कौन होगा. आईसीडीएस विभाग ने अब तक किसी भी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को न तो कोई मास्क उपलब्ध करवाया है और ना ही सैनिटाइजर.

ये भी पढ़ें: राजस्थान में कोरोना मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 69, ईरान से लाये गए भारतीयों में 7 पॉजिटिव

लगातार आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की तरफ से यह मांग की जा रही है कि इस संक्रमण से बचने के लिए हमें मास्क और सैनिटाइजर उपलब्ध करवाया जाए, लेकिन महिला एवं बाल विकास विभाग अब तक आंखें मूंद कर बैठा है. आंगनबाड़ी कार्यकर्ता अपने स्तर पर ही मास्क और सैनिटाइजर की व्यवस्था कब तक करेगी वाकई यह बड़ा सवाल है जिसे आईसीडीएस विभाग को सोचने की जरूरत है.

आपको बता दें कि सोमवार को राजस्थान में कोरोना पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा 69 पहुंच गया है. जयपुर के रामगंज में दो पॉजिटिव केस मिले हैं. रामगंज में पहले से पॉजिटिव मिले हनीफ की मां और बेटा कोरोना पॉजिटिव मिले हैं. वहीं, भीलवाड़ा में भी एक और पॉजिटिव सामने आया है. बांगड हॉस्पिटल की ओपीडी में एक व्यक्ति पॉजिटिव मिला है. इसके अलावा ईरान से भारत लाए गए लोगों में से आज कुल 7 पॉजिटिव मिले हैं. 277 भारतीय ईरान से 25 मार्च को जोधपुर लाये गए थे.