close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: रोजगार के अवसर विकसित करने के लिए कई जिलों में लगेगी हुनर हाट

शिल्पकारों और कारीगरों की इसी समस्या का समाधान करने के लिए केंद्र सरकार (central government) सामने आई है. इसके लिए केंद्र राज्यों की मदद ले रहा है और राज्यों में अलग-अलग ज़िलों में हुनर हाट का आयोजन करा रहा है. 

राजस्थान: रोजगार के अवसर विकसित करने के लिए कई जिलों में लगेगी हुनर हाट
फाइल फोटो

जयपुर: प्रदेश की कमाई में यहां के ट्रे़डिशनल (traditional) आर्ट वर्क (art work) के ज़रिए होने वाली कमाई का बड़ा हिस्सा भी शामिल होता है. एक्सपोर्ट (export) के ज़रिए प्रदेश को  हर साल बड़ा मुनाफा होता रहा है. लेकिन हैंडीक्राफ्ट (handicraft) के सेक्टर में मंदी के कारण आमदनी तो घटी ही है. रोज़गार भी कम हो गया है. 

शिल्पकारों और कारीगरों की इसी समस्या का समाधान करने के लिए केंद्र सरकार (central government) सामने आई है. इसके लिए केंद्र, राज्यों की मदद ले रहा है और राज्यों में अलग-अलग ज़िलों में हुनर हाट का आयोजन करा रहा है. 

जयपुर (Jaipur) और आमेर (Aamer) के अलावा प्रदेश के कई ज़िलों में नीति बनाकर हुनर हाट आयोजित किए जाएंगे. जिससे हुनरमंदों को तो काम मिलेगा ही, रोज़गार बढ़ने के साथ ही प्रदेश की सकल कमाई भी बढ़ेगी.

केंद्र सरकार हुनर हाट के जरिए शिल्पकारों, कारीगरों और पारंपरिक रसोइयों को बड़ी संख्या में रोजगार उपलब्ध करवाएगी. प्रदेश के तमाम ज़िलों के में भी अजमेर में इसका आयोजन होगा। जयपुर और जोधपुर में भी इसके आयेाजन की तैयारी की जा रही है. 2019 और 2020 में आयोजित होने वाले हुनर हाटों की थीम भी तय कर ली गई है. 'एक भारत, श्रेष्ठ भारत, की थीम पर ये हुनर हाट लगाए जाएंगे.

यहां लगेगी 'हुनर हाट'
केंद्रीय अल्पसंख्‍यक मंत्रालय हुनर हाट का आयोजन अजमेर, दि‍ल्ली, गुरूग्राम, मुंबई, चेन्‍नई, कोलकाता, बेंगलुरू, लखनऊ, अहमदाबाद, देहरादून, पटना, इंदौर, भोपाल, नागपुर, रायपुर, हैदराबाद, पुडुचेरी, चंडीगढ़, अमृतसर, जम्मू, शिमला, गोवा, कोच्चि, गुवाहाटी, रांची, भुवनेश्वर में करेगा.

हुनर हाट में इन्हें तरजीह
कारीगरों और शिल्पकारों को प्रोत्साहन देने के लिए हुनर हाट में मेक इन इंडिया, स्‍टैंडअप इंडिया, स्‍टार्टअप इंडिया सहित अन्य योजनाओं को बढ़ावा दिया जाएगा. ऐसे शिल्म मेले रोज़गार को तो प्रोत्साहन देते ही हैं, इन आयोजनों का मकसद स्थानीय उत्पादों और कामगारों को प्रमोट करना भी होता है.

Edited By: सतेंद्र यादव, twitter: @satendradeepu