गहलोत सरकार के पास बहुमत है तो, इतने दिन होटल में बंद क्यों थी: कटारिया

गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि, मैं तो बहुत पहले से ही कहता आ रहा हूं कि, बहुमत है तो सरकार को फ्लोर टेस्ट पर साबित करना चाहिए.

गहलोत सरकार के पास बहुमत है तो, इतने दिन होटल में बंद क्यों थी: कटारिया
कटारिया ने कहा कि, सरकार के पास बहुमत है तो, इतने दिन होटल में बंद क्यों रही है.

जयपुर/विष्णु शर्मा: नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि, सरकार के पास बहुमत है तो, इतने दिन होटल में बंद क्यों रही है. राजस्थान सरकार को बहुत पहले ही सदन में बहुमत साबित कर देना चाहिए था. कटारिया ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) की राज्यपाल कलराज मिश्रा (Kalraj Mishra) से मुलाकात के बाद के हालात पर प्रतिक्रिया दी.

कटारिया ने कहा कि, मैं तो बहुत पहले से ही कहता आ रहा हूं कि, बहुमत है तो सरकार को फ्लोर टेस्ट (Floor Test) पर साबित करना चाहिए. विपदा के समय कोई भी सरकार रहती वो काम तो करती है. इस सारे झगड़े का जितना प्रभाव जनता पर पड़ा है, उतना प्रभाव किसी राजनीतिक पार्टी पर नहीं हो रहा है.

गुलाबचंद कटारिया ने बीटीपी (BTP) विधायकों के सरकार को समर्थन सौंपने पर कहा कि, यह राजनीति की गिरावट है. दो दिन पहले बंधक बनाने का आरोप लगा रहे थे, अब समर्थन दे रहे हैं. कहीं न कहीं उनके मन में कमजोरी है. लोकतंत्र की मर्यादा के लिए इस तरह के कदम उठाना, किसी पार्टी के लिए सही नहीं है.

बीजेपी नेता ने कहा कि, कोई पार्टी समर्थन देना चाहे तो बाहर से दे सकती है, जेल में बंद होकर क्यों? बीटीपी का यह कदम कहीं न कहीं जनता के मन में संशय पैदा करता है. इससे पहले, राजस्थान बीजेपी चीफ सतीश पूनिया ने कहा कि, सरकार अधरझूल में है. उसके पास अभी बहुमत का आंकड़ा नहीं है.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के राज्यपाल से मिलने के सवाल पर पूनिया ने कहा कि, बहुमत होगा तो वो साबित कर देंगे, लेकिन कई दिन से लग नहीं रहा कि, उनके पास बहुमत है. एक अन्य सवाल के जवाब में पूनिया ने कहा कि, बीजेपी की संवैधानिक और कानूनी जो भी भूमिका विपक्ष के नाते रहेगी, उस पर विचार कर रहे हैं.

वहीं, वर्तमान हालात में भारतीय जनता पार्टी के रूख के सवाल पर पूनिया ने कहा कि, फिलहाल तो सरकार जितनी जल्दी चली जाए, उतना जनता के हक में अच्छा है. सतीश पूनियां ने कहा कि, अभी कोर्ट में मामला चल रहा है. कोर्ट के निर्णय के आधार पर बीजेपी फैसला करेगी कि, क्या करना है.

इधर, बीटीपी विधायकों के सरकार को समर्थन पर पूनिया ने कहा कि, सरकार अधरझूल में है और उसे संतुलित कर सके वो आंकड़ा बीटीपी (BTP) का है. उन्होंने कहा कि, बीटीपी विधायक कभी सरकारी कैम्प से भाग जाते हैं, कभी वापस आ जाते हैं. मैं समझता हूं कि, क्षेत्रीय दलों, निर्दलीय विधायकों के बीच अस्थिरता है, ऐसे में अभी बहुमत की स्थिति साफ नहीं है.