दूल्हा-दुल्हन को लेकर लौट रही कार पर पलटी अवैध बजरी से भरी ट्रैक्टर-ट्रॉली, फिर...

टोंक के पीपलू क्षेत्र के डारडातुर्की के पास तेज रफ्तार से दौड़ रही अवैध बजरी से भरी ट्रैक्टर-ट्रॉली दूल्हा-दुल्हन की गाड़ी के ऊपर आकर पलट गई, जिसमें दुल्हन सहित पांच लोग घायल हो गए.

दूल्हा-दुल्हन को लेकर लौट रही कार पर पलटी अवैध बजरी से भरी ट्रैक्टर-ट्रॉली, फिर...
प्रतीकात्मक तस्वीर.

पुरुषोत्तम जोशी, टोंक: जिले में बनास नदी से बजरी का अवैध खनन और परिवहन सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के साथ प्रशासन के लाख प्रयासों के बाद भी नहीं रूक पा रहा है. इसके चलते बजरी का काला कारोबार आमजन के लिए काल साबित हो रहा है.

आज अल सुबह दूल्हा-दुल्हन को लेकर लौट रही बारात की कार को बजरी से भरकर सरपट तेज रफ्तार से दौड़ रही ट्रैक्टर-ट्रॉली ने पहले तो टक्कर मार दी, फिर उस पर ही पलट कर गिर गई. पीछे आ रहे बारातियों ने कड़ी मशक्कत कर घायल दूल्हा-दुल्हन और अन्य को बाहर निकाला, जिन्हें सआदत अस्पताल लाया गया.

दरअसल, टोंक जिले से गुजर रही बनास नदी में अवैध बजरी का खनन जहां लगातार जारी है तो वहीं, सड़कों पर दौड़ती अवैध बजरी से भरी ट्रैक्टर-ट्रॉलियां आमजन के लिए भी काल साबित हो रही है. ऐसा आज सुबह हुआ है, जहां किशनगढ़ जिले के अराई के पास काकलवाड़ा से दूल्हा-दुल्हन सहित परिवार के लोग विदा होकर अपने गांव सुरेली लौट रहे थे. टोंक के पीपलू क्षेत्र के डारडातुर्की के पास तेज रफ्तार से दौड़ रही अवैध बजरी से भरी ट्रैक्टर-ट्रॉली दूल्हा-दुल्हन की गाड़ी के ऊपर आकर पलट गई, जिसमें दुल्हन सहित पांच लोग घायल हो गए.

घायलों को उपचार के लिए टोंक के सआदत अस्पताल में भर्ती कराया. घायल में चेतन पारीक, कुनाल पारीक, अनिता पारीक, दुल्हन नीलम पारीक और गर्वित पारीक का नाम है. वहीं, हादसे में दूल्हा बाल-बाल बच गया.