close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान चुनाव: कोटा के चुनावी रण में 'किन्नर' मैदान में!

किन्नर प्रत्याशी के चुनाव लड़ने के ऐलान के बाद चुनावी मैदान में उतरे अन्य प्रत्याशियों के लिए मुश्किल बढ़ गई है.

राजस्थान चुनाव: कोटा के चुनावी रण में 'किन्नर' मैदान में!
कोटा दक्षिण विधानसभा सीट से उम्मीदवार रीना किन्नर

हिमांशु मित्तल,कोटा: राजस्थान के चुनावी मैदान में प्रत्याशी अपना नामांकन दाख़िल करने पहुंच रहे हैं. लेकिन गुरुवार को नामांकन के दौरान समाज में अपेक्षित एक किन्नर भी कोटा दक्षिण विधानसभा सीट से चुनाव में पर्चा दाखिल करने पहुंची. किन्नर प्रत्याशी के चुनाव लड़ने के ऐलान के बाद चुनावी मैदान में उतरे अन्य प्रत्याशियों के लिए मुश्किल बढ़ गई है. कोटा दक्षिण विधानसभा सीट से रीना किन्नर नामक इस किन्नर प्रत्याशी ने विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए अपनी ताल ठोक दी है. 

कोटा दक्षिण विधानसभा सीट से पर्चा दाखिल करने पहुंची रीना किन्नर ने कोटा का राजनीतिक माहौल काफी गर्म कर दिया है और पूरे प्रदेश में इसकी चर्चा काफी तेज हो गई है. गुरुवार को ढ़ोल- नगाड़े के साथ नामांकन करने पहुंची रीना और उसके समर्थकों ने कोटा में रैली भी निकाली. कोटा शहर के महावीर नगर एरिया में रहने वाली रीना किन्नर को दलित शोषित पिछड़ा अधिकार वर्ग पार्टी ने कोटा दक्षिण सीट से अपना प्रत्याशी बनाया है. जिसका चुनाव चिन्ह ट्रक का निशान है. 


मीडिया से बात करती रीना किन्नर 

नामांकन दाखिल करने पहुंची रीना किन्नर ने मीडिया से बातचीत में कहा कि बीजेपी और कांग्रेस दोनों ही पार्टियां चुनाव में जनता से सिर्फ वादा करती हैं और जनता के पास नेता चुनाव जीतने के बाद लौटकर नहीं आते है. रीना का मानना है कि नेताओं के इस व्यवहार के कारण आम लोगों के हितों के लिए वो चुनाव में उम्मीदवार बन कर उतरी है. सीमा किन्नर का दावा है कि वो चुनाव जीतने के बाद भी गरीबों के साथ रहेंगी और उनकी सेवा करेंगी. 

हालांकि नामांकन के कागजात पूरे नहीं होने के कारण रीना किन्नर गुरुवार को अपना नामांकन दाखिल नहीं कर सकी और उन्हें वापस लौटना पड़ा. उनके समर्थकों का कहना है कि वह दोबारा आएगी और अपना नामांकन दाखिल करेगी और जनता की सेवा के लिए चुनाव लड़ेगी. आपको बता दें कि इससे पहले भी रीना किन्नर ने नगर निगम के वार्ड नंबर 27 से पार्षद का चुनाव लड़ा था, हालांकि वह जीत नहीं पाई थी.