close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अशोक गहलोत की नई कैबिनेट में इन जिलों को नहीं मिला है प्रतिनिधित्व

इस लिस्ट में बीकानेर संभाग से श्रीगंगानगर और हनुमानगढ़ जिले शामिल हैं जहां से चुनाव जीतने वाले एक भी कांग्रेस विधायक को राज्य में गठित होने वाले मंत्रिपरिषद में जगह नहीं मिली. 

अशोक गहलोत की नई कैबिनेट में इन जिलों को नहीं मिला है प्रतिनिधित्व
गहलोत के नए कैबिनेट में कई जिलों को प्रतिनिधित्व नहीं मिल पाया है. (फाइल फोटो)

शशि मोहन, जयपुर: सोमवार को गठित होने वाले गहलोत सरकार के मंत्री परिषद की शक्ल करीब-करीब तय तय हो गई है. शपथ-ग्रहण के दौरान 23 नए मंत्री शपथ भी ले लेंगे, लेकिन इन सब के बीच चर्चा मंत्रिपरिषद में शामिल होने से वंचित रहे जिलों की भी है, जहां से एक भी विधायक को मंत्रिपरिषद में जगह नहीं मिली. 

हालांकि, मंत्रिपरिषद में सभी संभागों को प्रतिनिधित्व देने के साथ ही जातीय संतुलन भी साधने की कोशिश की गई है. लेकिन इस लिस्ट में बीकानेर संभाग से श्रीगंगानगर और हनुमानगढ़ जिले शामिल हैं जहां से चुनाव जीतने वाले एक भी कांग्रेस विधायक को राज्य में गठित होने वाले मंत्रिपरिषद में जगह नहीं मिली. वहीं, जयपुर संभाग से वंचित रहा एकमात्र जिला झुंझुनू है.

जबकि भरतपुर संभाग की बात करें तो यहां से धौलपुर और सवाई माधोपुर के किसी विधायक को मंत्रिपरिषद में जगह नहीं मिली है. कोटा संभाग का एकमात्र वंचित जिला झालावाड़ है. हालांकि झालावाड़ संभाग के वंचित रहने का एक पहलू यह भी है कि यहां से कांग्रेस का कोई विधायक चुनाव जीत कर विधानसभा नहीं पहुंच पाया है. 
 
उदयपुर संभाग से संभाग मुख्यालय के साथ ही डूंगरपुर और राजसमंद जिले से भी कोई विधायक मंत्रिपरिषद में शामिल नहीं हो सका. इसी तरह अजमेर संभाग का भीलवाड़ा और नागौर जिला भी नए मंत्रिवंचित रहा. जोधपुर संभाग के पाली और सिरोही जिले से भी कोई विधायक मंत्रिपरिषद में शामिल नहीं किया गया है. 

'कांग्रेस ने की जातिगत संतुलन साधने की कोशिश'

कांग्रेस के रणनीतिकारों ने नवगठित गहलोत सरकार के मंत्रिपरिषद में जातिगत संतुलन साधने की भरपूर कोशिश की है. इस कड़ी में ब्राह्मण समाज से दो नाम, जबकि चार जाट, दो राजपूत, तीन वैश्य को मंत्रिमंडल में जगह दी गई है. इसके साथ ही अनुसूचित जाति के चार, अनुसूचित जनजाति के तीन विधायकों को मंत्रिपरिषद में शामिल किया गया है. अनुसूचित जनजाति में वागड़ से भी एक प्रतिनिधि शामिल है. गहलोत की मंत्रिपरिषद में सोमवार को शामिल होने वाले नामों में एक-एक चेहरा मुस्लिम, यादव, विश्नोई, गुर्जर और कलाल समाज से भी लिया गया है.