बेटे की चाहत में एक महिला ने दिया 12 बच्चों को जन्म-11 बेटी और एक बेटे की बनी मां

बेटे की चाहत में महिला ने 12 बच्चों को जन्म दिया.अब महिला को 12वीं संतान के रुप में बेटे का जन्म हुआ है. बेटे के जन्म से महिला और परिवार में खुशी का माहौल है. 

बेटे की चाहत में एक महिला ने दिया 12 बच्चों को जन्म-11 बेटी और एक बेटे की बनी मां
बेटे की चाहत में महिला ने दिया 12 वे बच्चे को जन्म

चूरु: जिले के झाड़सर गांव में एक महिला ने 12 वीं संतान को जन्म  दिया है. महिला को इससे पहले 11 बेटियां हैं. महिला की तीन बेटियों की शादी भी हो चुकी है. बेटे की चाहत में महिला ने 12 बच्चों को जन्म दिया.अब महिला को 12वीं संतान के रुप में बेटे का जन्म हुआ है. बेटे के जन्म से महिला और परिवार में खुशी का माहौल है. प्रसव के लिए महिला गुड्डी देवी को जिला मुख्यालय स्थित राजकीय मातृ एवं शिशु अस्पताल में भर्ती करवाया गया था जंहा उन्होंने बच्चे को जन्म दिया. महिला और नवजात दोनों स्वस्थ बताए जा रहे हैं
हमारे देश में बेटियां बेटों से किसी भी तरह से कम नहीं हैं इसे लेकर लगातार महिम चलाई जा रही है. लेकिन आज भी कईं लोग बेटे की चाहत में कईं बच्चों को जन्म दे देते हैं. ऐसी ही कहनी झाड़सर गांव की निवासी 41 साल की गुड्डी देवी की भी है जिन्होंने  बेटे की चाहत में अब तक 12 बच्चों को जन्म दिया है। हालांकी गुड्ड़ी देवी को पहले से 11 बेटियां भी हैं और उनमें से भी तीन बेटियों की शादी हो चुकी है.
उसने बताया कि गांव के लोग अक्सर बेटा नहीं होने पर उसे ताने देते थे. जिससे वो अक्सर परेशान हो जाती थी.इतना ही नहीं उसका पति कृष्ण कुमार भी बेटे की चाहत रखता था. गुड़्डी देवी के पति का कहना था की वंश चलाने के लिए लड़का तो होना ही चाहिए. इसीलिए लगातार बेटे की चाहत में उसने 12 बच्चों को जन्म दिया. गुड्डी देवी ने बताया की उसकी तीन बेटियों की शादी भी हो चुकी है. इतना ही नहीं उनके बच्चे भी हैं यानी गुड्डी देवी का बेटा उसकी बेटी के बच्चों से भी छोटा है.
जाहिर है देश में बेटियों के प्रति लोगों का नजरिया बदलने के लिए लगातार अभियान चलाए जाते हैं. लेकिन लोगों की मानसिकता ऐसी है की बदलती नहीं. जिससे ऐसे मामले सामने आते हैं. वंश बढ़ाने के नाम पर लोग बेटे की चाहत रखते हैं.यंहा तक की उन्हें गर्भ में मारने से भी परहेज नहीं करते. देश में ऐसी मानसिकता को खत्म करने की जरुरत है.