close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोकसभा चुनाव के चौथे चरण में सबसे ज्यादा अमीर मैदान में, 33 फीसदी उम्मीदवार करोड़पति

चौथे चरण के चुनाव में कांग्रेस और बीजेपी के बराबर उम्मीदवार करोड़पति है. दोनों ही पार्टियों के 88-88 फीसदी उम्मीदवार करोड़पति है.

लोकसभा चुनाव के चौथे चरण में सबसे ज्यादा अमीर मैदान में, 33 फीसदी उम्मीदवार करोड़पति
चौथे चरण में 943 उम्मीदवार में से 306 उम्मीदवार करोड़पति है.

जयपुर: देश में चौथे चरण में राजस्थान समेत आठ राज्यों में लोकसभा चुनाव हो रहे है. जिसमें 943 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे है. जबकि राजस्थान में पहले चरण के चुनाव में 13 सीटों पर 115 उम्मीदवार मैदान में है. देश में हो रहे चौथे चरण के चुनाव में सबसे ज्यादा करोड़पति उम्मीदवार मैदान में है. इस चरण में अब तक सबसे ज्यादा 33 फीसदी उम्मीदवार करोड़पति है. पहले चरण में जहां 27 फीसदी, दूसरे चरण में 25 फीसदी और तीसरे चरण में 32 फीसदी करोड़पति उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा चुके है. चौथे चरण के चुनाव में कांग्रेस और बीजेपी के बराबर उम्मीदवार करोड़पति है. दोनों ही पार्टियों के 88-88 फीसदी उम्मीदवार करोड़पति है.

देश में गरीब, बेरोजगार और आर्थिक रूप से कमाजेर लोग अपना वोट डालकर लोकतंत्र को मजबूत करते है. लेकिन देश की मुख्य पार्टियों में अधिकतर करोड़पति उम्मीदवारों पर विश्वास जताया है. चौथे चरण में कांग्रेस और बीजेपी ने 88-88 फीसदी करोड़पति उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है. चौथे चरण में दोनों ही पार्टियों के 57 में से 50-50 उम्मीदवार के पास धन दौलत की कोई कमी नहीं है, क्योंकि ये सभी उम्मीदवार करोडपति है. जबकि औसतम एक उम्मीदवार को निकाला जाए तो 4.53 करोड़ औसतम मानी जा रही है. चौथे चरण में 943 उम्मीदवार में से 306 उम्मीदवार करोड़पति है. 

वहीं राजस्थान की बात करें तो यहां सबसे करोड़पति उम्मीदवार टोंक-सवाईमाधोपुर से भाजपा उम्मीदवार सुखबीर सिंह जौनपुरिया और उनकी पत्नी दयावती 122 करोड़ 53 लाख रुपए की संपत्ति की मालिक हैं. नागौर से कांग्रेस प्रत्याशी ज्योति मिर्धा और उनके पति नरेंद्र की संपत्ति 66.05 करोड़ रुपए, रिजु झुनझुनवाला और उनकी पत्नी अमृता की संपत्ति 83.19 करोड़ रुपए की है.

केवल करोड़पति उम्मीदवार की अपनी ताल नहीं ठोक रहे, बल्कि ऐसे उम्मीदवार भी मैदान में है, जिनके पास 1 रूपए की भी संपत्ति नहीं है. चौथे चरण में राजस्थान की प्रेमलता बंशीवाल के पास कोई संपत्ति ही नहीं है और ना कोई बैंक बैलेंस ना कोई प्रोपॅटी और ना ही बैंक अकाउंट. प्रेम लता के पास संपत्ति नहीं है, लेकिन इसके बावजूद भी वे जज्बे के साथ चुनाव लड़ रही है. प्रेमलता टोंक सवाईमाधोपुर सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ रही है. इसके अलावा देश में सबसे गरीब उम्मीदवार भी राजस्थान से ही है. झालावाड़ से निर्दलीय चुनाव लड़ चुके प्रिंस कुमारी की केवल 5 हजार की संपत्ति है. उनके पास पैनकार्ड तक नहीं है. जबकि चितौड़गढ़ से निर्दलीय उम्मीदवार शमशुद्दीन के पास केवल 7 हजार रूपए की संपत्ति है.

यानि अधिकतर मुख्य पार्टियों ने करोड़पति उम्मीदवारों पर विश्वास जताया है. कांग्रेस और बीजेपी के केवल 12-12 फीसदी उम्मीदवार ही करोड़पति नहीं है. अब देखना यह होगा कितने करोड़पति और कितने लखपति उम्मीदवार लोकतंत्र के मंदिर में पहुंच पाते है.