Indian Railways ने माल ग्राहकों के लिए शुरू किया नया पोर्टल, अब मिलेगा ये फायदा

भारतीय रेल (Indian Railways ) द्वारा माल परिवहन सेवा हेतु पोर्टल विकसित किया गया है.

Indian Railways ने माल ग्राहकों के लिए शुरू किया नया पोर्टल, अब मिलेगा ये फायदा
कस्टमर्स फर्स्ट के सिद्धांत से माल ग्राहकों व रेलवे के मध्य बेहतर और तीव्र सामंजस्य होगा.

दामोदर प्रसाद, जयपुर: भारतीय रेल (Indian Railways ) द्वारा माल परिवहन सेवा हेतु पोर्टल विकसित किया गया, जिससे कस्टमर्स फर्स्ट के सिद्धांत से माल ग्राहकों व रेलवे के मध्य बेहतर और तीव्र सामंजस्य होगा. 

उत्तर पश्चिम रेलवे सीपीआरओ सुनील बेनीवाल ने बताया कि रेलवे ने अपने ढुलाई दायरे में विस्तार तथा राजस्व बढ़ाने हेतु माल ढुलाई ग्राहकों के लिए एक पोर्टल तैयार किया है. इससे माल ढुलाई कराने वाले ग्राहक न केवल सीधे अधिकारियों से जुड़ सकेंगे, बल्कि वे इस पर अपनी शिकायतें भी दर्ज कर सकेंगे. 

ये भी पढ़ें: 'मीना' और 'मीणा' नहीं है कोई विवाद, केवल स्पैलिंग का है फर्क: CM गहलोत

रेल बोर्ड के निर्देश पर सेंटर फॉर रेलवे इंफॉर्मेशन सिस्टम्स (CRIS) द्वारा एक फ्रेट बिजनेस डेवलपमेंट (FBD) पोर्टल डिजाइन और विकसित किया गया है. एफबीडी को विशेष रूप से ‘‘कस्टमर्स फर्स्ट’’ के सिद्धान्त की सोच के साथ डिजाइन और विकसित किया गया है.इस से नए ढुलाई ग्राहकों को भी रेलवे के ढुलाई कारोबार के बारे में जानकारी मिल सकेगी.इस  पोर्टल पर रेलवे के ढुलाई कारोबार के बारे में सूचना उपलब्ध कराई गई है. 

यह पोर्टल संभावित माल ग्राहकों (Goods customers) को एक चैनल प्रदान करती है. नया एफबीडी पोर्टल से संभावित माल ढुलाई ग्राहक अधिकारियों से संपर्क कर सकेंगे और अपने सामान के परिवहन के लिए उनकी मदद ले सकेंगे.इस  पोर्टल पर मौजूदा ग्राहकों के लिए भी फीचर्स बढ़ाए गए हैं. इस पोर्टल में भारतीय रेलवे से माल प्रेषण की प्रक्रिया, विभिन्न सुविधाओं का विवरण, अपने माल प्रेषण के लिए सबसे उत्तम टर्मिनल की खोज, अपने नियोजित माल प्रेषण के लिए अपेक्षित मालभाड़ा की जानकारी, विभिन्न लाभदायक योजनाए, माल का समयसारणीबद्ध परिवहन, भेजे गए.माल 

की वास्तविक स्थिति की जानकारी, टर्मिनल निवेश, वेगन निवेश, लॉजिस्टिक सहभागिता, समस्या का तुरंत समाधान के बारे में जानकारी दी गयी है. इसका पोर्टल का लिंक https://www.fois.indianrail.gov.in/RailSAHAY/index.jsp है.

ये भी पढ़ें: विमानों के संचालन के लिए खुशखबरी लेकर आया शारदीय नवरात्र, यात्रीभार में हुई बढ़ोतरी