close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: स्वास्थ्य मंत्री ने ‘मीजल्स-रूबेला टीकाकरण अभियान‘ की शुरुआत की

कार्यक्रम के दौरान स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने आम लोगों से टीकाकरण को लेकर फैलाई भ्रांतियों से दूर रहने की अपील की.

राजस्थान: स्वास्थ्य मंत्री ने ‘मीजल्स-रूबेला टीकाकरण अभियान‘ की शुरुआत की
स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने टीकाकरण अभियान की शुरुआत की. (फोटो साभार: twitter)

जयपुर: प्रदेश भर में सोमवार से ‘मीजल्स-रूबेला टीकाकरण अभियान‘ को मिशन बनाकर शुरुआत की गई है. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा ने जयपुर के एक स्कूल पहुंचकर इस अभियान की शुरुआत की. इस दौरान एसीएस रोहित कुमार सिंह, मिशन निदेशक एनएचएम हेमंत गेरा, सीएमएचओ (प्रथम) नरोत्तम शर्मा मौजूद रहे.

कार्यक्रम के दौरान स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने आम लोगों से टीकाकरण को लेकर फैलाई भ्रांतियों से दूर रहने की बात कही है. इस अभियान के जरिये प्रदेश में 9 महीने से 15 वर्ष के सभी बच्चों का टीकाकरण होगा. जिससे खसरा-रूबेला जैसी बीमारी का उन्मूलन हो सके. अभियान के माध्यम से स्वास्थ्य विभाग ने शत-प्रतिशत बच्चों के टीकाकरण का लक्ष्य रखा है.

बताया जा रहा है कि पूरे देश में अब तक 30 करोड़ से ज्यादा बच्चों को मीजल्स-रूबेला का टीका दिया जा चुका है. इस दौरान प्रदेश में 2 करोड़ से ज्यादा बच्चों के टीकाकरण का लक्ष्य रखा गया है. 2017 से मिजल्स-रूबेला टीकाकरण को बतौर अभियान बनाकर शुरुआत की गई थी और प्रदेश में 5 से 6 सप्ताह में 100 प्रतिशत बच्चों का टीकाकरण किया जाना है. 

लाइव टीवी देखें:

अभियान के दौरान सभी स्कूलों, आंगनबाड़ी केंद्रों और स्वास्थ्य केंद्रों पर 9 महीने से 15 वर्ष की उम्र के बच्चों का टीकाकरण किया जाएगा.

क्या है खसरा-रूबेला
खसरा एक जानलेवा एवं तीव्र गति से फैलने वाला खतरनाक संक्रामक रोग है. यह रोग प्रभावित रोगी के खांसने व छींकने से फैलता है. इसके प्रभाव से बच्चों में निमोनिया, दस्त एवं मस्तिष्क में संक्रमण जैसी घातक बीमारियों का खतरा बना रहता है.

यह रोग नवजात शिशुओं एवं बच्चों की मृत्यु का एक प्रमुख कारण भी है. इसी प्रकार गर्भावस्था के आरम्भ से ही महिला को रूबेला का संक्रमण होने की संभावना बनी रहती है. इससे शिशु में जन्मजात रूबेला सिन्ड्रोम हो सकता है. इसके कारण शिशु में अंधापन, बहरापन, मानसिक विमंदता एवं दिल की बीमारी हो सकती है. रूबेला संक्रमण से गर्भवती महिला में गर्भपात एवं मृत शिशु जन्म की संभावना भी बढ़ जाती है.