close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: 10 साल के बच्चे की डेंगू से मौत, मां ने कहा अस्पताल की लापरवाही से गई जान

मृतक बच्चे की मां ने अस्पताल पर लापरवाही के आरोप लगाए हैं. उनका कहना है कि, वहां इलाज गलत तरीके से हुआ और हालत बिगड़ने पर बच्चे को निजी अस्पताल फोर्टिस में रैफर किया गया जंहा अगली सुबह बच्चे की मौत हो गई.

जयपुर: 10 साल के बच्चे की डेंगू से मौत, मां ने कहा अस्पताल की लापरवाही से गई जान

जयपुर/ आशुतोष शर्मा: चिकित्सा विभाग भले ही इस साल प्रदेश में सक्रिय हुए जीका को काबू करने का दावा कर रहा हो लेकिन पिछले छह सालों से शहर में कहर बरपा रहे डेंगू से निजात नहीं दिला पाया है. हालात यह है कि हर दिन सैंकड़ों डेंगू मरीज सामने आ रहे हैं और मौतें हो रही हैं. शहर में डेंगू से इस साल की पहली मौत रविवार देर रात हु. महज 10 साल के बच्चे की मौत ने उन सभी विभागों की कार्यप्रणाली को सोचने के लिए मजबूर कर दिया है जो कि शहर में मच्छर मारने से लेकर बीमारियों को दूर और लोगों का इलाज करने का झूंठा दावा करते हैं. 

महिला उत्पीड़न कोर्ट के जज संजय कुमार गुप्ता के 10 वर्षीय बेटे टीशू को कुछ दिन पहले बुखार हुआ. उन्होंने साकेत हॉस्पिटल में भर्ती कराया और तीन दिन यहां भर्ती रखा गया. तबीयत बिगड़ने पर उसे फोर्टिस हॉस्पिटल रैफर कर दिया गया लेकिन यहां भी तबीयत में सुधार नहीं हुआ और रविवार देर रात उसकी तबीयत अचानक से खराब हो गई और करीब तीन बजे बच्चे की मौत हो गई. परिवार का कहना है कि ईलाज के नाम पर निजी अस्पतालों में मोटा पैसा लिया जाता है फिर भी बेहतर ईलाज नहीं मिल पाता तो गरीबों के बच्चों का इलाज कैसे संभव हो पायेगा. 

मृतक बच्चे की मां ने अस्पताल पर लापरवाही के आरोप लगाए हैं. उनका कहना है कि, वहां इलाज गलत तरीके से हुआ और हालत बिगड़ने पर बच्चे को निजी अस्पताल फोर्टिस में रैफर किया गया जंहा अगली सुबह बच्चे की मौत हो गई. चिकित्सा विभाग इस साल डेंगू से प्रदेश में अब तक नौ मौतें होने का दावा कर रहा है जबकि हकीकत में मौतों का आंकड़ा 15 को पार कर चुका है.

प्रदेश में डेंगू पॉजिटिव मरीजों की संख्या काफी अधिक हो चुकी है. चिकित्सा विभाग के आंकड़ों के अनुसार प्रदेश भर में 31 अक्टूबर तक 5947 डेंगू पॉजिटिव केस और नौ मौतें बताई जा रही हैं. इनमें अकेले जयपुर में ही 2592 केस पॉजिटिव हैं. इसके बाद अलवर में 332, धौलपुर में 282 और जोधपुर में 259 केस सामने आए हैं. नौ मौतों में चार श्रीगंगानगर में, दो-दो झुंझूनू और बीकानेर और बारां में एक मौत सामने आई है.