Jaipur: बिजली बिल के बकाएदारों को लगेगा 'करंट', नोटिस भेज काटे जा रहे कनेक्शन

Jaipur News: बिजली चोरों में डर पैदा करने के लिए विजिलेंस एक्शन बढ़ा है. जयपुर डिस्कॉम बड़े बकायेदारों से बकाया बिल राशि वसूलने के लिए विशेष मुहिम चला रही है जो 31 मार्च तक चलेगी.

Jaipur: बिजली बिल के बकाएदारों को लगेगा 'करंट', नोटिस भेज काटे जा रहे कनेक्शन
बिल के बकाएदारों को नोटिस भेज कनेक्शन काटे जा रहे हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Jaipur: बिजली कंपनियां अब राजस्व वसूली पर खासा फोकस कर रही हैं. इसके लिए बकायेदारों को नोटिस जारी कर कनेक्शन काटे जा रहे हैं. वहीं, बिजली चोरों में डर पैदा करने के लिए विजिलेंस एक्शन बढ़ा है. जयपुर डिस्कॉम बड़े बकायेदारों से बकाया बिल राशि वसूलने के लिए विशेष मुहिम चला रही है जो 31 मार्च तक चलेगी. वहीं, बकाया बिल जमा करवाने के लिए अवकाश के दिनों में भी बिजली विभाग के दफ्तर खोलने की तैयारी है.

दरअसल, मार्च रेवेन्यू का महीना है. ऐसे में सभी विभाग अपने खातों को दुरूस्त करने में लगे हैं. घाटे से जुझ रही बिजली कंपनियां भी अब मार्च महीना खत्म होने से पहले अपनी लेखा पुस्तिकाओं को सुधार रही हैं. जिन खंड कार्यालयों में बिजली बिलों की वसूली और छीजत अधिक है उनको चार्जसीट थमाने की तैयारी है.

इसके लिए सहायक अभियंताओं को नोटिस जारी हो रहे है. Lockdown की वजह से अब तक केवल 95 प्रतिशत ही बिजली बिलों की वसूली हो पाई है. तीनों डिस्कॉम के प्रबंधन ने चीफ इंजीनियर, अधीक्षण अभियंता व दूसरे सीनियर ऑफिसर्स की मीटिंग लेकर बकाया वसूली पर फोकस करने के निर्देश दिए थे. मौटे तौर पर 500 करोड़ रुपए से अधिक की वसूली पेंडिंग है. 

ये भी पढ़ें-Corona को लेकर गहलोत सरकार ने जारी की नई गाइडलाइन, यहां पढ़ें पूरा Detail

 

छीजत और राजस्व वसूली के साथ ही पूरे साल के कामकाज की समीक्षा के आधार पर एसीआर (ACR) भरी जा रही है. डिस्कॉम ने तो बिजली चोरी पकड़ने व बिलों की वसूली में पिछड़ने वाले इंजीनियरों की एसीआर बिगाड़ने की तैयारी कर ली है. अच्छा काम करने वाले को एसीआर वेरी गुड लिखा जाएगा, ताकि बेहतर काम करने वाले इंजीनियरों को प्रोत्साहन मिले.

जयपुर, जोधपुर और अजमेर डिस्कॉम में 17.94 फीसदी बिजली छीजत है. जबकि टास्क 15 फीसदी का है. जयपुर डिस्कॉम में बिजली चोरी व बिल वसूली में लापरवाही बरतने वाले इंजीनियरों को फिर से चार्जशीट और कारण बताओ नोटिस जारी करने शुरू कर दिए हैं. 31 मार्च तक जो अधिकारी रेवेन्यू हासिल करने में पिछड़ा उस पर कार्रवाई तय है.

ये भी पढ़ें-Jaisalmer: Pak की तरफ से आए तूफान ने मचाया 'तांडव', फसलें तबाह होने से किसान मायूस