जयपुर: पंचायत चुनाव से पहले गहलोत सरकार ने किया प्रशासनिक अधिकारियों का तबादला

सरकार ने 4 अतिरिक्त कलक्टर, 18 एसडीएम के तबादले के साथ ही अन्य विभागों में तबादले किए गए हैं. 6 आरएएस के तबादले निरस्त किए गए हैं. 

जयपुर: पंचायत चुनाव से पहले गहलोत सरकार ने किया प्रशासनिक अधिकारियों का तबादला
गहलोत सरकार ने प्रशासनिक अधिकारियों में बड़ा फेरबदल किया है.

जयपुर: प्रदेश में स्थानीय निकाय चुनाव खत्म होने के बाद गहलोत सरकार ने प्रशासनिक अधिकारियों में बड़ा फेरबदल किया है. सरकार ने 42 आरएएस अधिकारियों का तबादला किया है. सरकार पंचायतीराज चुनाव से पहले अधिकारियों की फील्डिंग सेट करने में जुट गई है.

खबरों की मानें तो पंचायतीराज चुनाव से पहले सरकार मंत्रियों के पसंदीदा अधिकारियों के तबादले कर रही है. इन तबादलों में भी मंत्रियों की खूब चली है. सरकार ने 4 अतिरिक्त कलक्टर, 18 एसडीएम के तबादले के साथ ही अन्य विभागों में तबादले किए गए हैं. 6 आरएएस के तबादले निरस्त किए गए हैं. इसके साथ ही सरकार ने लंबे समय से खाली चल रहे पदों पर भी अधिकारियों की तैनाती करना शुरू कर दिया है.

माना जा रहा है कि जनकल्याणकारी योजनाओं को लागू करने में शिथिलता बरतने के चलते अधिकारियों को बदला गया है. पंचायत चुनाव की आचार संहिता लगने से पहले सरकार ने मंत्रियों और विधायकों की डिजायर के आधार पर अफसर लगा दिए गए हैं. 

दरअसल, गहलोत सरकार चाहती है कि सरकारी दस्तावेज बने जन घोषणा पत्र के बिंदुओं को आम जमीनी धरातल पर उतारा जाए. उद्योग मंत्री परसादी लाल मीणा के निर्वाचन क्षेत्र लालसोट के तहत आने वाले रामगढ़ पचवारा का उपखंड अधिकारी बदल दिया गया है. खाद्य मंत्री रमेश मीणा के निर्वाचन क्षेत्र सपोटरा का उपखंड अधिकारी भी बदल लिया गया है. 

वहीं, मंत्रियों की इच्छा के अनुसार ही उपखंड अधिकारी लगाए गए हैं. पंचायत चुनाव की आचार संहिता लगने से पूर्व गहलोत सरकार ने ब्यूरोक्रेसी में बड़ा बदलाव करते हुए साफ संकेत दे दिया है कि अफसर जनहित को प्राथमिकता देते हुए काम करें. ऐसा नहीं होने पर अफसर को हटाया जा सकता है.