Coronavirus: 31 मार्च तक जयपुर इस्कॉन टेंपल बंद, भक्त ऑनलाइन करें ठाकुरजी के दर्शन

झुंझुनू में बुधवार को तीन व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. 

Coronavirus: 31 मार्च तक जयपुर इस्कॉन टेंपल बंद, भक्त ऑनलाइन करें ठाकुरजी के दर्शन
झुंझुनू में बुधवार को तीन व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं.

जयपुर: कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते जयपुर में इस्कॉन मंदिर सहित आमेर शिला माता मंदिर को 31 मार्च तक के लिए बंद कर दिया गया है. मंदिर में बाहर के श्रद्धालुओं के आने पर रोक लगा दी है. केवल मंदिर के पुजारी ही अंदर रहेंगे.

इस निर्णय के बाद मंदिर प्रबंधन ने अंदर रहने वाले पुजारियों को भी सेनेटाइजर और मास्क लगाने का निर्देश दिया है. इस्कॉन के मैनेजर हरि बोल ने बताया कि कोरोना वायरस से सुरक्षा के चलते यह निर्णय लिया गया है. श्रद्धालु मंदिर में नहीं आ सकेंगे. अंदर ठाकुर जी की सेवा चलती रहेगी. 

कोरोना वायरस को लेकर सरकार लोगों को एक ही स्थान पर जुटने से मना कर रही है. इसे दृष्टिगत रखते हुए विभिन्न मंदिर सेवा और दर्शन को लेकर निर्णय ले रहे हैं. इस संबंध में एक बोर्ड भी गेट पर लगा दिया, जिसमें दर्शन फिलहाल प्रतिबंधित रखने की जानकारी दी गई है. मंदिर प्रबंधन की ओर से 31 मार्च तक ऑनलाइन दर्शन करने की अपील की जा रही है. 

बता दें कि झुंझुनू में बुधवार को तीन व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. यह तीनों व्यक्ति एक ही परिवार के हैं और यह परिवार 8 मार्च को इटली से लौटा था. इटली से लौटने के बाद मंगलवार को लक्षण प्रतीत होने पर सैंपल लेकर जयपुर भेजकर जांच करवाई गई और बुधवार को तीनों के सैंपल पॉजिटिव पाए गए. तीनों व्यक्तियों को झुंझुनू से जयपुर लाया जा रहा है.

लोगों से घरों में रहने की अपील की गई
जयपुर में विशेषज्ञ चिकित्सकों के अधीन उपचार किया जाएगा. इस परिवार के निवास से 1 किलोमीटर की परिधि में कर्फ्यू के आदेश दिए गए हैं. झुंझुनू शहर वासियों से अपने अपने घरों में ही रहने की अपील की गई है. इस परिवार से संपर्क में आए समस्त व्यक्तियों की स्क्रीनिंग की जाएगी. इस सघन अभियान को दृष्टिगत रखते हुए झुंझुनू वासियों से अपने घर में ही रहने की अपील की गई है. 

चिकित्सा मंत्री ने बताया कि चिकित्सा विभाग अपने स्तर पर कोरोना के संक्रमण की रोकथाम के लिए यथासंभव समस्त प्रयास कर रहा है. उन्होंने प्रदेशवासियों से चिकित्सा विभाग द्वारा जारी की गई एडवाइजरी की पालना करने के साथ ही रोकथाम के समस्त कार्यों में पूर्ण सहयोग प्रदान करने की अपील की है.