जयपुर: प्रक्रियाधीन भर्तियों में गुर्जर आरक्षण का पेंच फंसा, विधायकों ने लिखा CM को खत

विधायकों ने पत्र लिखकर मुख्यमंत्री से यह गुजारिश की है कि जल्द से जल्द प्रक्रियाधीन भर्तियों में का रास्ता साफ किया जाए, ताकि जल्द से जल्द बेरोजगारों को सरकारी नौकरी मिल सके.

जयपुर: प्रक्रियाधीन भर्तियों में गुर्जर आरक्षण का पेंच फंसा, विधायकों ने लिखा CM को खत
प्रक्रियाधीन भर्तियों में गुर्जरों को एक प्रतिशत आरक्षण का लाभ मिला है.

जयपुर: राजस्थान में गुर्जर आरक्षण में लगातार नए नए पेच फंसते जा रहे हैं. लेकिन इन विवादों के बीच सबसे पुराना विवाद प्रक्रियाधीन भर्तियों का है,जो सालों बाद भी सुलझ नहीं पाया है. ऐसे में अब ये मामला फिर मुख्यमंत्री गहलोत तक जा पहुंचा है. 7 विधायकों ने प्रक्रियाधीन भर्तियों को लेकर मुख्यमंत्री गहलोत को खत लिखा है. 

विधायकों ने पत्र लिखकर मुख्यमंत्री से यह गुजारिश की है कि जल्द से जल्द प्रक्रियाधीन भर्तियों में का रास्ता साफ किया जाए. ताकि जल्द से जल्द बेरोजगारों को सरकारी नौकरी मिल सके. प्रक्रियाधीन भर्तियों में गुर्जरों को एक प्रतिशत आरक्षण का लाभ मिला है.जबकि इन भर्तियों में  4 फ़ीसदी आरक्षण की मांग की जा रही है.ऐसे में यह मामला लगातार बढ़ता जा रहा है और फिर से गुर्जर नेताओं के बाद अब बेरोजगारों ने भी सरकार से उम्मीदें लगाई है कि जल्द से जल्द इन भर्तियों का रास्ता साफ किया जाएगा.

ऐसे फंसा आरक्षण का पेंच 
राजस्थान में गुर्जर समेत पांच जातियों को फिलहाल 5 फ़ीसदी आरक्षण मिल रहा है. लेकिन जब ये भर्तियां निकली तब गुर्जरों को महज एक फीसदी आरक्षण का लाभ मिलता था. आंदोलन के दौरान गुर्जरों ने सरकार से मांग की थी कि प्रक्रियाधीन भर्तियों में भी 5 फ़ीसदी आरक्षण का लाभ गुर्जरों को मिले. इसी सहमति के बाद गुर्जरों ने आंदोलन को खत्म किया था लेकिन बेरोजगारों को सरकार से अभी उम्मीद है कि जल्द से जल्द इस मामले को सुलझाने की कोशिश करेगी ताकि बेरोजगारों को रोजगार मिल सके. 

इन विधायकों ने लिखा सीएम को खत
प्रक्रियाधीन भर्तियों को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को 7 विधायकों ने पत्र लिखा है. जिसमें विराटनगर के विधायक इंद्राज गुर्जर,खेतड़ी विधायक डॉ जितेंद्र सिंह,नदबई से जोगिंदर सिंह अवाना, बांदीकुई से गजराज खटाना, टोडाभीम से पृथ्वीराज मीणा ने मुख्यमंत्री को खत लिखकर प्रक्रियाधीन  भर्तियों में 4% आरक्षण देने की बात कही. इसके अलावा चाकसू से विधायक वेद प्रकाश सोलंकी नवलगढ़ विधायक राजकुमार शर्मा ने भी सीएम को पत्र लिखा. इनमें से अधिकतर कांग्रेस के विधायक ही है जिन्होंने सीएम को पत्र लिखा. 

इन भर्तियों में उलझा है आरक्षण 
राजस्थान में प्रक्रिया दिन भर्तियों में 4 फ़ीसदी आरक्षण की मांग तेज हो गई है. भर्तियों में रीट भर्ती 2018, पुलिस भर्ती 2018, पंचायतीराज एलडीसी भर्ती 2013, कमर्शियल असिस्टेंट 2018, नर्सिंग भर्ती 2018,पैरामेडिकल भर्ती 2018, टेक्निकल हेल्पर 2018,जेल प्रहरी 2018 एएनएम- जीएनएम भर्ती 2018 और बैकलॉग की भर्तियों में 4 फ़ीसदी आरक्षण की मांग की जा रही है. इन भर्तियों में एमबी, एमबीसी वर्ग को 1 फ़ीसदी आरक्षण पहले ही मिल चुका है. 

सीएम से उम्मीदें दुगनी हो गई
अब पूरा मामला मुख्यमंत्री के पास जाने के बाद एक बार फिर से अभ्यर्थियों की उम्मीदें दुगनी हो गई है. अभ्यर्थियों को लगता है कि अब जल्द से जल्द सरकार पूरे मामले का हल निकालेगी इस भर्ती में 5000 से ज्यादा पदों पर नौकरियों का पेच फंसा हुआ है. 2018 से पहले की भर्तियों में गुर्जर समेत पांच जातियों को 4 फ़ीसदी आरक्षण का लाभ नहीं मिला है इन भर्तियों में केवल 1 फ़ीसदी ही आरक्षण का लाभ मिल पाया है.