Jaipur : मोती डूंगरी गणेश जी मंदिर में 30 अप्रैल तक No Entry, ऐसे होंगे दर्शन

कोरोना (Coronavirus) की दूसरी लहर तेजी से साथ आगे बढ़ रही हैं. राजस्थान में डराने वाले सामने आंकड़े आ रहे हैं. 

Jaipur : मोती डूंगरी गणेश जी मंदिर में 30 अप्रैल तक No Entry, ऐसे होंगे दर्शन
आरती होगी, लेकिन मंदिर दर्शनार्थियों के लिए रहेगा बन्द.

Jaipur : कोरोना (Coronavirus) की दूसरी लहर तेजी से साथ आगे बढ़ रही हैं. राजस्थान में डराने वाले आंकड़े सामने आ रहे हैं. धार्मिक स्थलों पर भीड को कंट्रोल करने के लिए 30 मार्च तक दर्शनार्थियों की एंट्री बंद कर दी गई हैं. 16 से 30 अप्रैल तक सभी धार्मिक स्थल बंद रहेंगे. सभी को घर से ही पूजा, अरदास और इबादत करनी होगी. सरकार (Rajasthan Government) की नई गाइडलाइन जारी होने के बाद मोतीडूंगरी गणेश मंदिर प्रबंधन ने आज से ही मंदिर को बंद दर्शनार्थियों के बंद कर दिया हैं. सभी से ऑनलाइन दर्शनों के माध्यम से घर से पूजा करने की अपील की जा रही है. 

यह भी पढ़ें- Rajasthan: Ashok Gehlot की जनता से अपील, Lockdown की तरह करें संयमित व्यवहार

कोरोना संक्रमण फैलने से रोकने के लिए सभी धार्मिक स्थलों को 30 अप्रैल तक दर्शनों के लिए बंद हैं. लेकिन प्रभू की सेवा सुबह-शाम होती रहेगी. मोतीडूंगरी गणेश मंदिर (Moti Dungri Ganesh Ji Temple) प्रबंधन ने राज्य सरकार की 16 अप्रैल से लागू होने जा रही गाइडलाइन से पहले ही मंदिर के पट आम दर्शनार्थियों के आज से ही बंद कर दिए हैं. महंत कैलाश शर्मा ने बताया की दो गज दूरी और मास्क है जरूरी को अपनाते हुए हैल्थ प्रॉटोकॉल का ध्यान रखना होगा. शादी समारोह नजदीक आ रहे हैं ऐसे में भगवान श्रीगणेश को निमंत्रण देने वालों की संख्या भी बहुत ज्यादा हैं.

इसके लिए मंदिर के बाहर ही निमंत्रण पत्र लेने की व्यवस्था की गई हैं. दर्शनों के लिए पट 30 अप्रैल तक बंद कर दिए गए हैं. राज्य सरकार की नई गाइडलाइन (Rajasthan Corona Guideline) जारी होने के बाद आज ही लोग न्यौता देने के लिए मंदिर में उमडे लेकिन मंदिर बंद होने के चलते उन्हे बाहर से ही भगवान श्रीगणेश को निमंत्रण देकर लौटना पडा. भक्तों के लिए MOTIDUNGRI.COM, फेसबुक पर ऑनलाइन दर्शन की व्यवस्था की गई हैं.

जनमानस के स्वास्थ की सुरक्षा के मद्देनजर कोरोना वायरस से बचाव के लिए शहर के बड़े धार्मिक स्थल 30 अप्रैल तक बंद रहेंगे. ताकि भक्तों की भीड़ यहां नहीं हो सके. वहीं, आगामी दिनों में होने वाली शोभायात्राएं, चैत्र नवरात्रों के कार्यक्रमों को भी रद्द किया है. शहर के धर्मगुरुओं ने आमजन से घर पर आनलाइन ई-दर्शन, कीर्तन को देखने का आहवान किया है. सभी मंदिरों ने अपने फेसबुक पेज और मंदिर की वेबसाइट को अपडेट किया, ताकि श्रद्धालुओं को पल-पल की जानकारी मिल सके. 

यह भी पढ़ें- राजस्थान में बढ़ रहे कोरोना के मामले, लॉकडाउन को लेकर CM गहलोत ने किया ये ऐलान