किसान दें ध्यान, Rajasthan में इस तारीख से समर्थन मूल्य पर शुरू होगी गेहूं की खरीद

प्रदेश में किसानों की सुविधा के लिए लगभग 350 खरीद केंद्रों पर 15 मार्च से समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीद की जाएगी.

किसान दें ध्यान, Rajasthan में इस तारीख से समर्थन मूल्य पर शुरू होगी गेहूं की खरीद
किसान पहले की तरह अनाज संबंधित नजदीकी खरीद केंद्र पर पहुंचेंगे.

Jaipur: किसानों के लिए अच्छी खबर है. न्यूनतम समर्थन मूल्य (Minimum Support Price) पर किसानों के गेहूं (Wheat) खरीद 15 मार्च से शुरू होगी. इसके लिए 350 क्रय केंद्र (Purchasing center) खोलने की कवायद तेज कर दी है. 

यह भी पढ़ें- राजस्थान ने सेंट्रल पूल के लिए खरीदा 21.61 लाख टन गेहूं

 

अधिकारियों का जोर इस बात पर है कि गेहूं बेचने आने वाले किसानों को किसी तरह की दिक्कत न हो. गेहूं की खरीद भारतीय खाद्य निगम (Food Corporation of India), नेफेड, राजफैड और तिलम संघ एजेंसियों के माध्यम से की जाएगी.

यह भी पढ़ें- राजस्थान में 7.12 लाख टन सरकारी गेहूं की हुई खरीद, 17 लाख टन रखा गया लक्ष्य

 

लाने होंगे ये प्रमाण पत्र
प्रदेश में किसानों की सुविधा के लिए लगभग 350 खरीद केंद्रों पर 15 मार्च से समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीद की जाएगी. केंद्र सरकार से प्राप्त निर्देशों की पालना में इस बार होने वाली गेहूं की खरीद के लिए ऑनलाइन सिस्टम उपलब्ध रहेगा. ऑनलाइन सिस्टम के तहत की जाने वाली खरीद के प्रथम चरण के तहत कल से किसानों का पंजीयन शुरू हो जाएगा. भारतीय खाद्य निगम के खरीद केंद्रों पर किए जाने वाली खरीद के लिए किसानों का पंजीयन ई-मित्र  के माध्यम से होगा. किसानों को खरीद के लिए बैंक पासबुक की छायाप्रति, चेक, आधार कार्ड एवं गिरदावरी सहित सक्षम स्तर से जारी प्रमाण पत्र आवश्यक रूप से लाना होगा.

ई-मित्र के माध्यम से कर सकेंगे आवेदन 
खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग सचिव नवीन जैन ने बताया कि राजफैड (RAJFED), नेफेड और तिलम संघ खरीद एजेंसियों के लिए किसान अपना पंजीयन खरीद केंद्रों के माध्यम से करवा सकेंगे. किसानों के सत्यापन के लिए जन आधार कार्ड जरूरी होगा. किसानों को पंजीयन केंद्र पर बैंक पासबुक की छायाप्रति चेक एवं गिरदावरी सहित सक्षम स्तर से जारी प्रमाण पत्र देना होगा. 

शासन सचिव नवीन जैन ने बताया कि किसान किसी भी प्रकार की कोई जानकारी अगर लेना चाहते हैं तो टोल फ्री नंबर 1800 -180- 6001 पर जानकारी ले सकते हैं. उन्होंने बताया कि किसानों को पूर्व की भांति 48 घंटों के अंदर ऑनलाइन भुगतान करवाए जाने की व्यवस्था की जा रही है. उन्होंने बताया कि अगर किसी किसान के पास जन आधार कार्ड उपलब्ध नहीं है तो वह जन आधार कार्ड के लिए ई-मित्र के माध्यम से आवेदन कर सकेंगे. उन्होंने बताया कि अगर किसी किसान के जन आधार कार्ड में बैंक खाता संख्या का इंद्राज नहीं है तो इसके लिए नजदीकी ई-मित्र पर जाकर जन आधार कार्ड में अपने खाते का भी इंद्राज करवाएंगे.

बहरहाल, किसान पहले की तरह अनाज संबंधित नजदीकी खरीद केंद्र पर पहुंचेंगे, जहां भारत सरकार द्वारा निर्धारित एफएक्यू मापदंडों के अनुसार परीक्षण करवाएंगे. परीक्षण में सफल होने के बाद किसान अनाज की सफाई-तुलाई और पैकिंग की कार्यवाही करवाएंगे. खरीद केंद्र पर उपस्थित ऑपरेटर द्वारा सूचना को ऑनलाइन कर किसान को विक्रय पर्ची का प्रिंट उपलब्ध करवाएंगे.