जयपुर: सदन में गूंजा पुलिस अधिकारियों की संपत्ति का मामला, विधायक ने लगाए बड़े आरोप

विद्युडी यहीं नहीं रूके उन्होंने कहा कि पुलिस जनप्रतिनिधियों की छवि खराब बना देती है. उन्होंने सरकार से मांग की है कि एसपी के 5 साल के कार्यकाल की जांच होनी चाहिए.

जयपुर: सदन में गूंजा पुलिस अधिकारियों की संपत्ति का मामला, विधायक ने लगाए बड़े आरोप
विधानसभा में गूंजा पुलिस अधिकारियों की संपत्ति का मामला. (फाइल फोटो)

भरत राज/जयपुर: राजस्थान विधानसभा में शुक्रवार को पुलिस अधिकारियों की संपत्ति की जांच की मांग उठी. विधायक राजेंद्र विद्युडी ने अनुदान मांगों पर चर्चा के दौरान पुलिस पर एक से बढ़कर एक आरोप लगाए. उन्होंने कहा कि पुलिस थानों में क्या नोट छापने की मशीन लगी हुई है. उदयपुर रेंज के कई अधिकारी 500 करोड़ कमा लाए. उन्होंने कहा कि अधिकारियों पर लगाम लगाओ नहीं तो यह जनप्रतिनिधियों की कुर्सी पर कब्जा जमा लेंगे.

विद्युडी यहीं नहीं रूके उन्होंने कहा कि पुलिस जनप्रतिनिधियों की छवि खराब बना देती है. उन्होंने सरकार से मांग की है कि एसपी के 5 साल के कार्यकाल की जांच होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि यही करना है तो दाउद इब्राहिम, छोटा राजन से ही बात कर लो. जनप्रतिनिधियों की छवि क्यों खराब की जा रही है.

चित्तौड़गढ़ एसपी पर विधूड़ी ने गम्भीर आरोप लगाते हुए कहा कि एसीबी के टेप रिकॉर्डर के दस्तावेज विधानसभा में है. विधानसभा में कागज दिखाते हुए कहा 2 लाख रुपये की रिश्वत मांगी थी एसपी ने, फिर क्यों भृष्ट अधिकारी को बचा रहे हैं. इसमे 6 पुलिस वाले भी शामिल हैं. अफीम के डोडे चूरे की तस्करी रोकें.। मैं गलत हूं तो मुझे फांसी की सजा दें.

साथ ही, विधूड़ी ने कहा कि, एसपी को सर्विस से टर्मिनेट क्यों नहीं किया गया, तेरा मेरा चलाओगे तो नाव डूब जाएगी, चित्तौड़गढ़ से देश भर में डोडा चुरा भेजा जा रहा है, चित्तौड़गढ़ में ड्रग्स माफिया की कमर तोड़नी होगी, 3 बार एसीबी के ट्रेप हुए, फिर एसपी क्यों बचे, उच्च अधिकारी एसपी को बचा रहे हैं, विजिलेंस जांच में क्लीन चिट बताते हैं, नेताओं को चोर बताते हैं, कोरोना से बड़ा वायरस भ्रष्ट अधिकारियों को बचाना है. ईमानदार लोगों को अच्छी जगह लगाओ, जिससे सरकार की छवि सुधरे.