close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दिल्ली और राजस्‍थान में कांग्रेस कार्यालय के बाहर कार्यकर्ताओं का हंगामा, पिछले दरवाजे से निकले पायलट

विरोध जता रहे नेताओं ने कार्यालय से बाहर निकल रहे अशोक गहलोत को घेर लिया तो वहीं दूसरी ओर पीसीसी चीफ सचिन गहलोत और अविनाश पांडे पीछे के दरवाजे से गुपचुप निकले.

दिल्ली और राजस्‍थान में कांग्रेस कार्यालय के बाहर कार्यकर्ताओं का हंगामा, पिछले दरवाजे से निकले पायलट

जयपुर: लंबे इंतजार और कई दौर की बैठकों के बाद गुरुवार को आखिरकार कांग्रेस द्वारा राजस्थान विधानसभा चुनाव में उम्मीदवारों की घोषणा की गई, लेकिन इस घोषणा के तुरंत बाद ही कांग्रेस की आपसी कलह खुलकर सामने आ गई. पार्टी से कई नेताओं और मंत्रियों को टिकट मिलने की उम्मीद थी लेकिन टिकट न मिलने के कारण सभी कार्यकर्ता नाराज नजर आए. जिसके चलते पहले तो देर रात दिल्ली में राहुल गांधी के घर बाहर उन्होंने जमकर प्रदर्शन किया और अब उसके बाद कांग्रेस कार्यालय के बाहर भी ये कार्यकर्ता लगातार प्रदर्शन करते नजर आए. 

इस दौरान एक ओर जहां विरोध जता रहे नेताओं ने कार्यालय से बाहर निकल रहे अशोक गहलोत को घेर लिया तो वहीं दूसरी ओर पीसीसी चीफ सचिन गहलोत और अविनाश पांडे पीछे के दरवाजे से गुपचुप निकले. यहां नाराज कार्यकर्ताओं ने अशोक गहलोत को घेर लिया और उनके सामने नारेबाजी की. कांग्रेस के बीच लिस्ट जारी होने के बाद मचा यह बवाल काफी बढ़ता जा रहा है. नाराज कार्यकर्ताओं का आरोप है कि कांग्रेस ने पैसे लेकर टिकट दिए हैं और पेराशूट उम्मीदवारों को चुनावों में उतारा है. 

गौरतलब है कि, कार्यालय के बाहर बढ़ते हंगामे को देखते हुए पुलिस द्वारा सुरक्षा व्यवस्था को बढ़ा दिया गया है. इस दौरान पुलिस ने काफी संख्या में पुलिस बल को तैनात कर रखा है. बताया जा रहा कांग्रेस के दिग्गज नेता फिलहाल दिल्ली में हैं. राजस्थान पीसीसी के अंदर केवल उपाध्यक्ष मुमताज मसीह मौजूद हैं. वहीं, कांग्रेस में चल रही इस बगावत की जानकारी मिलने के बाद राहुल गांधी ने आज यानी शुक्रवार शाम को एक बार फिर सीईसी की बैठक बुलाई है और लिस्ट को लेकर रिपोर्ट की मांग की है. 

पहली सूची में 152 उम्मीदवार
बता दें, गुरुवार देर रात कांग्रेस द्वारा 152 सीटों पर प्रत्याशियों की सूची को जारी किया गया था. जिसमें  29 एससी, 24 एसटी, ब्राह्मण और वैश्य समुदाय को मिला कर 20 सीटें दी गई है. वहीं राजपूतों को 13, जाट को 23, मुस्लिमों को  9, महिलाओं को 20 और नए चेहरों को 46 सीटें दी गई हैं.