जयपुर: पतंगबाजी के बहाने सचिन पायलट ने किया BJP पर तंज, कहा कुछ ऐसा...

बीजेपी के सीएए के समर्थन में पतंग उड़ाने के सवाल पर पायलट ने कहा कि त्यौहार के दिन राजनीति से बचना चाहिए. मुद्दे हवा में उड़ाने के बजाय धरातल पर रहकर समस्या समाधान करना चाहिए. 

जयपुर: पतंगबाजी के बहाने सचिन पायलट ने किया BJP पर तंज, कहा कुछ ऐसा...
पूरे प्रदेश में मकर संक्रांति का त्यौहार बड़ी धूमधाम के साथ मनाया गया.

जयपुर: मकर संक्रांति पर पतंगबाजी के बहाने कांग्रेस और भाजपा नेताओं ने एक-दूसरे पर कटाक्ष किए. भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने नागरिकता संशोधन बिल के समर्थन में पतंगे उड़ाई, वहीं कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट ने इसे हवा-हवाई करार दिया.प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय भवन की छत पर सचिन पायलट ने कार्यकर्ताओं के साथ पतंगबाजी की. इस दौरान बीजेपी के सीएए के समर्थन में पतंग उड़ाने के सवाल पर पायलट ने कहा कि त्यौहार के दिन राजनीति से बचना चाहिए. मुद्दे हवा में उड़ाने के बजाय धरातल पर रहकर समस्या समाधान करना चाहिए. 

साथ ही सचिन पायलट ने कहा कि किसी भी राजनीतिक दल को मुद्दों को जनभावना के अनुरूप काम करना चाहिए. पूरे देश में कैम्पस, कॉलेज में पुलिस घुस रही है. देश में हिंसा का वातावरण बना हुआ है. नौजवान कहीं न कहीं रूष्ट है, उनमें आपसी संवाद की कमी है. बहुत के बल पर थोपना ठीक नहीं है, परस्पर संवाद की जरूरत है. 

इधर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने किशनपोल बाजार में सौंखियों के रास्ता स्थित मकान की छत से पतंगबाजी अभियान शुरू किया. पूनिया ने कार्यकर्ताओं के साथ सीएए के समर्थन में पतंगबाजी कर लोगों को संदेश दिया. उन्होंने पायलट के बयान पर पलटवार किया कि पायलट खुद हवा में हैं. उन्हें पता नहीं कि उनका भविष्य क्या है. 

बता दें कि, मंगलवार को पूरे प्रदेश में मकर संक्रांति का त्यौहार बड़ी धूमधाम के साथ मनाया गया. साथ ही, पर्यटन विभाग द्वारा काइट फेस्टिवल जलमहल की पाल पर आयोजित किया गया. फेस्टिवल के मुख्य अतिथि पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह, सांसद व जयपुर राजकुमारी दीया कुमारी ने बैलून उड़ा कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया. जयपुर पर्यटन उपनिदेशक उपेंद्र सिंह शेखावत ने कार्यक्रम में आए मेहमानों का स्वागत किया. काईट फेस्टिवल में बड़ी संख्या में देशी-विदेशी पर्यटक भी शामिल हुए. 
 
पर्यटन विभाग का ओर से काइट फेस्टिवल में पर्यटकों ने भी जमकर पतंगबाजी की और साथी व्यंजनों का भी लुप्त उठाया. पतंगबाजी के लिए पर्यटन विभाग ने निशुल्क पतंगे उपलब्ध करवाई. किसी पर्यटक की उंगली नहीं कटे उस को ध्यान में रखते हुए सद्दे का ही उपयोग किया गया और पतंग उड़ाते समय पक्षियों को बचाते हुए ही पतंगबाजी करने की भी अपील की.