जयपुर: प्रमोशन को लेकर सचिवालय सेवा अधिकारियों ने सरकार से की यह मांग...

सचिवालय कर्मचारियों ने ज्ञापन सौंपकर मांग की है कि सचिवालय सेवा के उप सचिव और वरिष्ठ उप सचिव को आरएएस की तर्ज पर कमरा आवंटित किया जाए.

जयपुर: प्रमोशन को लेकर सचिवालय सेवा अधिकारियों ने सरकार से की यह मांग...
सचिवालय कर्मचारियों ने कहा कि सचिवालय में लगने वाले कैंपों में विभागों का दखल न हो.

भरत राज/जयपुर: अन्य सेवाओं से आईएएस में प्रमोशन को रोकने को लेकर आरएएस एसोसिएशन ने सरकार को ज्ञापन दे रखा है. वहीं, अब सचिवालय सेवा अधिकारियों ने भी अन्य सेवा की तर्ज पर आईएएस में प्रमोशन देने की मांग की है. कर्मचारियों ने कहा कि अन्य सेवाओं के कई अधिकारी आईएएस बन जाते लेकिन उन्हें प्रशासनिक अनुभव नहीं होता. जबकि सचिवालय के अधिकारियों के पास प्रशासनिक अनुभव होता है. उन्हें सीएस की स्क्रीनिंग कमेटी में शामिल किया जाए. इसके लिए उन्होंने डीओपी प्रमुख सचिव रोली सिंह को ज्ञापन सौंपा है. इस दौरान सचिवालय अधिकारी संघ अध्यक्ष मेघराज पंवार, सचिवालय कर्मचारी संघ अध्यक्ष देवेंद्र सिंह शेखावत, निजी सचिव एवं निजी सहायक संघ अध्यक्ष मुकुट बिहारी शर्मा, विधि रचना संघटन अध्यक्ष अनिल कुमार शर्मा, सचिवालय तकनीकी कर्मचारी संघ अध्यक्ष राधेश्याम यादव, सहायक कर्मचारी संघ अध्यक्ष मुकेश पारीक मौजूद रहे. 

RAS के जैसे मिले कमरा और गाड़ी
सचिवालय कर्मचारियों ने ज्ञापन सौंपकर मांग की है कि सचिवालय सेवा के उप सचिव और वरिष्ठ उप सचिव को आरएएस की तर्ज पर कमरा आवंटित किया जाए. इसके साथ ही आरएएस के समान ही उन्हें ऑफिस आने जाने के लिए गाड़ी दी जाए. सचिवालय वरिष्ठ अधिकारियों को बैठने के लिए कमरे नहीं मिलते हैं जिससे काम की गुणवत्ता प्रभावित होती है. इसके लिए सचिवालय सेवा के पदों से आरएएस अधिकारियों को हटाने की मांग की है. सचिवालय सेवा के पदों पर आरएएस और अन्य अधिकारियों को पदस्थापित किया गया है. जिसमें गृह ग्रुप 6, गृह ग्रुप 12, कार्मिक ख, क-5 में डीएस के पदों पर आरएएस अधिकारी लगे हुए हैं. 

सहायक अनुभागाधिकारी पद पर प्रमोशन में मिले छूट
सचिवालय कर्मचारियों ने मंत्रालयिक सेवा में सहायक अनुभाग अधिकारी के पद पर प्रमोशन के लिए अनुभव में छूट दिए जाने की मांग की है. उन्होंने कहा कि मंत्रालयिक सेवा में एएसओ के 46 प्रतिशत पद रिक्त चल रहे हैं. उन्होंने कहा कि अनुभव में दो साल की छूट दिए जाने से लिपिक ग्रेड प्रथम से इन्हें भरा जा सकेगा. उन्होंने कहा कि नायब तहसीलदार से तहसीलदार, अतिरिक्त निजी सचिव से निजी सचिव, अतिरिक्त प्रशासनिक अधिकारी से प्रशासनिक अधिकारी, सहायक वन संरक्षक से उप वन संरक्षक, लेखाधिकारी से वरिष्ठ लेखाधिकारी के प्रमोशन में दो साल की छूट देकर इन्हें भरा गया. इसीलिए इन्हें भी शिथिलन का लाभ दिया जाए.

सचिवालय में लगने वाले शिविरों में न हो विभागों का दखल
सचिवालय कर्मचारियों ने कहा कि सचिवालय में लगने वाले कैंपों में विभागों का दखल नहीं हो. सचिवालय संघ खुद के स्तर पर ही कैंपों का आयोजन करें. उन्होंने कहा कि सचिवालय में कर्मचारियों की विभिन्न मांगों पर प्रॉपर्टी, बैंक, चिकित्सा, बीमा शिविर लगाए जाते हैं. इसके साथ ही सचिवालय पोर्च पर गांधी प्रतिमा के सामने कार्यक्रम आयोजित करने को लेकर लगाई गई रोक को हटाने की मांग की है. 

ग्रीन बिल्डिंग के काम पर उठाए सवाल
सचिवालय कर्मचारियों ने ज्ञापन सौंपकर सचिवालय में ग्रीन बिल्डिंग के नाम पर किए जा रहे काम पर सवाल उठाए हैं. उन्होंने कहा कि ग्रीन बिल्डिंग में जहां कमरों में हवा, रोशनी की व्यवस्था करनी थी. जिसकी जगह केवल पौधे लगाने को ही ग्रीन बिल्डिंग का काम समझा जा रहा है. वहीं, कर्मचारी लगातार रोशनी, हवा की व्यवस्था नहीं होने से कमरे बदलने की मांग करते रहते हैं. इसके साथ ही सचिवालय में पौधों के लिए जगह जगह खोदे जा रहे गड्डों को भी गलत बताया है. उन्होंने कहा कि सचिवालय मुख्य भवन विरासतीय वैभव का प्रतीक है. भवन के नजदीक गड्डे खोदकर पेड़ लगाए जा रहे हैं, जिसमें पानी देने से नींव कमजोर होगी.