close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: हज यात्रियों का पहला जत्था गुरुवार को होगा रवाना, सभी तैयारियां पूरी

जिन हजयात्रियों ने आनलाइन रिपोर्टिंग कर दी है वे रवानगी से 24 घंटे पहले पहुंचकर सफर के कागजात हासिल कर सकते है.

जयपुर: हज यात्रियों का पहला जत्था गुरुवार को होगा रवाना, सभी तैयारियां पूरी
पहली बार टर्मिनल-2 हज यात्रा का आवागमन किया जा रहा है.

दामोदर प्रसाद/जयपुर: हज यात्रियों की पहली उडान आज जयपुर एयरपोर्ट से रात 1.40 बजे रवाना होगी. एयरपोर्ट के नए टर्मिनल-2 से हजयात्रियों का आवागमन शुरू किया जा रहा है. इसमें करीब 420 हजयात्री हज के लिए पहली फ्लाइट से जा रहे है. हजयात्री जिन्होने आनलाइन रिपोर्टिंग नहीं की है. उन्हे कर्बला स्थित हज हाउस में पहुंचकर जमा राशि की रसीद दिखाकर बुकिंग कंफर्म करनी होगी.

वहीं जिन हजयात्रियों ने आनलाइन रिपोर्टिंग कर दी है वे रवानगी से 24 घंटे पहले पहुंचकर सफर के कागजात हासिल कर सकते है. जयपुर एयरपोर्ट निदेशक जेएस बलहारा ने बताया की 17 जुलाई से 1 अगस्त तक फ्लाइटों का आवागमन रहेगा. अबकी पहली बार टर्मिनल-2 हज यात्रा का आवागमन किया जा रहा है. अगली हज यात्रा टर्मिनल-1 से ही रवाना होगी. बता दें कि टर्मिनल-1 का रेनोवेशन होने के कारण टर्मिनल-2 से हजयात्रा जाने का फैसला लिया गया है.

एप पर लोकेशन भी मिलेगी
हजयात्रा के दौरान मोबाइल एप इंडियन हाजी इंफॉमेंशन सिस्टम में हजयात्रियों की सारी जानकारी रहेगी. इस एप में पासपोर्ट, रिहायशी कैटेगरी, फ्लाइट डिटेल्स, लोकेशन, इमरजेंसी फोन नम्बर के अलावा मक्का मदीना में स्थित हॉस्पिटल रेस्टोरेंट भी शो करेगा. इसके अलावा इसमें हजगाइड भी उपलब्ध रहेगी.

हजयात्री यात्रा से पूर्व इन बातों का ध्यान रखें
साथ ही जो हजयात्री यात्रा के लिए लिए जा रहे हैं उन्हें कुछ खास बातों का ध्यान भी रखना होगा. दो बैग में 22-22 किलो से ज्यादा सामान साथ नहीं लेकर जाएं. हैड बैग में 10 किलो से ज्यादा सामान मान्य नहीं होगा. यात्रा के दौरान ओपीडी बुकलेट जिसमें मेडिकल हिस्ट्री और लगाए गए टीकों की जानकारी है हमेशा साथ रखे. उड़ान रवानगी से 6 घंटे पहले एयरपोर्ट पहुंचना होगा, 3 घंटे पहले एंट्री बंद हो जाएगी.

वहीं कोई हजयात्री तय समय पर नहीं पहुंचता है तो 25 हजार रूपए हज कमेटी के खाते में जमा कराने पर अगली उड़ान में जगह होने पर सीट मिलेगी. हज हाउस में रिहायश सिर्फ हाजियों के लिए दस्तियाब होगी. एक कवर पर करीबी रिश्तेदार को रिहायशी दी जाएगी.