अडानी समूह के कार्मिकों ने संभाला Jaipur Airport पर मोर्चा, जानिए क्या होंगे बड़े बदलाव

जयपुर इंटरनेशनल एयरपोर्ट के निजीकरण के बाद अडानी समूह (Adani Group) के कार्मिकों ने एयरपोर्ट पर मोर्चा संभाल लिया है.

अडानी समूह के कार्मिकों ने संभाला Jaipur Airport पर मोर्चा, जानिए क्या होंगे बड़े बदलाव
फाइल फोटो

Jaipur : जयपुर इंटरनेशनल एयरपोर्ट के निजीकरण के बाद अडानी समूह (Adani Group) के कार्मिकों ने एयरपोर्ट पर मोर्चा संभाल लिया है. दिवाली से पूर्व ही टर्मिनल—2 पर सुविधाओं को ओर बेहतर करने के लिए कई बदलाव भी यहां देखने को मिलेंगे. इसके साथ ही जल्द ही यात्रियों को एयरपोर्ट यूजर चार्ज के नाम पर कुछ ज्यादा शुल्क भी वसूला जाएगा. घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के यात्रियों से यूजर डेवलपमेंट फीस (यूडीएफ) ज्यादा वसूल सकती है. मौजूदा समय में जयपुर एयरपोर्ट पर घरेलू यात्री से 465 और अंतरराष्ट्रीय यात्री से 1005 रुपए यूडीएफ वसूला जाता है. इस बीच एयरपोर्ट पर अब अडानी समूह के प्रचार प्रसार के लिए दोनों टर्मिनल पर समूह के ब्रांडिंग आदि पर पूरा फोकस किया जाएगा. अडानी समूह के मुख्य एयरपोर्ट अधिकारी विष्णु मोहन झा ने बताया कि विकास कार्यों के लिए जल्द निर्णय लिया जाएगा. अभी कार्यप्रणाली को बारीकी से समझा जा रहा है. इस दौरान कुछ कार्यों के लिए अधिकारियों के साथ बैठक भी हुई. दिवाली से पहले कुछ बदलाव जरूर होंगे.

अडानी समूह ने एक निजी कंपनी एमएसएफ को जिम्मेदारी सौंपी गई है. एयरपोर्ट (Jaipur Airport) पर 150 से अधिक कर्मचारी फिलहाल तीन साल तक कार्य कर सकेंगे. निजी समूह ने डीजीसीए से कई खामियों को सुधार के लिए इजाजत मांगी है. इसके साथ ही एक से दो दिनों में विंटर शेडयूल में श्रीनगर सहित अन्य जगहों के लिए नई उड़ाने शुरू होगी. एयरपोर्ट आथिरिटी ने शेडयूल तैयार कर दिल्ली भेज दिया है. गौरतलब है कि एयरपोर्ट पर लगातार यात्रीभार बढ़ने के साथ ही विमानों की संख्या में इजाफा हो रहा है. जल्द दिवाली के मदृदेनजर इसमें इजाफा होना तय है. रविवार को जयपुर से 11 हजार यात्रियों ने यात्रा की. कोरोना के बाद अब जयपुर से 78 फीसदी यात्रीभार पुराने आंकड़ों को छू चुका है.

यह भी पढ़ें- BJP ने जारी की स्टार प्रचारकों की सूची, राज्य से सभी केंद्रीय मंत्री, पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे शामिल

आगामी दिनों में जल्द ही सबसे पहले एयरपोर्ट के टर्मिनल—2 पर खरीददारी के लिए दुकानों की संख्या में इजाफा, बंद पड़ी अराइवल गेट के बाहर कैंटीन को शुरू किया जाएगा. साथ ही खानपान भी महंगा होगा. ज्वैलरी, हेरिटेज सहित अन्य दुकानों की फिलहाल अभी कमी है. वर्तमान समय में एयरपोर्ट पर आधा दर्जन दुकानें ही है. कंपनी उड़ानों के स्लॉट चार्ज, एप्रिन चार्ज भी बढ़ा सकती है, जिसका सीधा असर यात्रियों के किराए पर पड़ सकता है. एयरपोर्ट पर यदि किसी यात्री को सी-ऑफ करना हो या रिसीव करना हो तो उसके लिए 8 मिनट का नि:शुल्क समय मिलता है, लेकिन निजी कंपनी के एयरपोर्ट पर प्रवेश करने के साथ ही इस पर भी शुल्क शुरू हो सकता है. बताया जा रहा है कि कम से कम आधे घंटे का पार्किंग शुल्क लगाया जा सकता है.

अगले सप्ताह से देश से सभी उड़ानें 18 अक्टूबर से 100 फीसदी क्षमता के साथ उड़ान भरेंगी. दिवाली के मौके पर नागरिक विमानन एवं उडडयन मंत्रालय ने सभी रोक हटा ली है. वर्तमान समय में अभी तक कोरोना के चलते 72.5 प्रतिशत क्षमता के साथ यात्रा हो रही थी. इसके साथ ही विमानन कंपनियों और हवाईअडडा संचालकों से कोरोना के पूरे एहतियात सख्ती से बरतने के निर्देश दिए हैं.