मुख्यमंत्री आवास से निकला गतिरोध तोड़ने का रास्ता, CP Joshi ने दी सदन की बैठक बुलाने की अनुमति

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अहम भूमिका अदा करते हुए सदन की बैठक बुलाने के लिए स्पीकर सीपी जोशी को तैयार कर लिया है

मुख्यमंत्री आवास से निकला गतिरोध तोड़ने का रास्ता, CP Joshi ने दी सदन की बैठक बुलाने की अनुमति
प्रतिकात्मक तस्वीर.

Jaipur: सदन (Vidhan Sabha) में कल हुए हंगामे के बाद नियमों की पालना ना होते देख सदन की कार्यवाही अनिश्चितकाल तक स्थगित करने वाले डॉ सीपी जोशी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) के अनुरोध के बाद सदन की बैठक फिर से चलाने को तैयार हो गए हैं. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने टेलीफोन पर डॉ सीपी जोशी (Dr CP Joshi) से सदन की कार्यवाही आगे चलाने का आग्रह किया है. जिस पर सीपी जोशी ने सहमति व्यक्त की है. सरकार की ओर से कल सुबह 11 बजे लिखित में सदन की बैठक बुलाने का आग्रह किया गया है. इस पर विधानसभा अध्यक्ष (Rajasthan Assembly Speaker) की ओर से अनुमति दे दी गई है. 18 सितंबर तक चलने वाले इस सत्र में कई अहम बिलों के पारित होने की संभावना है.

यह भी पढे़- Rajasthan में CID द्वारा चलाया जा रहा विशेष अभियान, कुख्यात तस्करों को किया गया गिरफ्तार

राजस्थान विधानसभा (Rajasthan Legislative Assembly) के मौजूदा सत्र की कार्यवाही अनिश्चितकाल तक के लिए स्थगित किए जाने के बाद बने गतिरोध को तोड़ने के लिए रास्ता 8 सिविल लाइन यानी मुख्यमंत्री आवास से निकला है. सदन के नेता के तौर पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अहम भूमिका अदा करते हुए सदन की बैठक बुलाने के लिए स्पीकर सीपी जोशी को तैयार कर लिया है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के हस्तक्षेप के बाद राजस्थान विधानसभा के अध्यक्ष डॉ सीपी जोशी सदन की बैठक शुक्रवार सुबह 11 बजे से बुलाने पर राजी हो गए हैं.

विधानसभा अध्यक्ष डॉ.सीपी जोशी ने स्वयं नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया (Gulab Chand Kataria) को जानकारी देकर अवगत करवाया है. दरअसल कल शाम सदन में हुए हंगामे के बाद नियमों की अवहेलना होते देख स्पीकर सीपी जोशी ने सदन की कार्यवाही अनिश्चितकाल तक के लिए स्थगित कर दी थी. सत्ता पक्ष और विपक्ष के विधायकों ने सीपी जोशी को मनाने की कोशिश की लेकिन आखिरकार सदन के नेता मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के हस्तक्षेप के बाद गतिरोध दूर हो पाया है. 

यह भी पढे़- भर्ती परीक्षा होकर, रिजल्ट भी निकल गया, लेकिन अब तक एजेंसी को भुगतान नहीं

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस संबंध में सीपी जोशी से बात की और उन्हें सदन की कार्यवाही को जारी रखने के लिए अनुरोध किया है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देशों के बाद सरकार की ओर से विधानसभा अध्यक्ष को लिखित में विधानसभा की कार्यवाही सुचारू तौर पर चलाने को लेकर आग्रह किया गया है. सरकार के आग्रह पर विधानसभा अध्यक्ष ने सहमति व्यक्त कर दी है.

यह भी पढे़- 300 तहसीलों का रिकॉर्ड हुआ ऑनलाइन, 39 तहसीलें रहीं शेष

इस बारे में विधानसभा का अधिकृत बुलेटिन भी जारी होगा. कार्य सलाहकार समिति की बैठक में तय एजेंडे के अनुसार विधानसभा की कार्यवाही दो दिन चलने की संभावना है. आपको बता दे कि कल संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल (Shanti Dhariwal) से हुई तीखी नोकझोंक के बाद विधानसभा अध्यक्ष ने सदन की बैठक को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया था. विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी के मानने पर अब निश्चित तौर पर विधानसभा में अनुपूरक अनुदान की अतिरिक्त मांगों के अलावा अन्य बिलों के पास होने का रास्ता भी साफ हो गया है.