पंजाब कांग्रेस सरकार में बदलाव के सूत्रधार रहे राजस्व मंत्री हरीश चौधरी का बड़ा बयान, पंजाब से नहीं की जा सकती राजस्थान की तुलना

पंजाब कांग्रेस की सरकार में बड़े बदलाव के मुख्य सूत्रधार रहे राजस्थान सरकार के राजस्व मंत्री हरीश चौधरी का कहना है कि पंजाब में जो कुछ हुआ वह विधायकों की इच्छा और मर्जी से हुआ, लेकिन पंजाब की तुलना राजस्थान से नहीं की जा सकती. 

पंजाब कांग्रेस सरकार में बदलाव के सूत्रधार रहे राजस्व मंत्री हरीश चौधरी का बड़ा बयान, पंजाब से नहीं की जा सकती राजस्थान की तुलना
फाइल फोटो

Jaipur : पंजाब कांग्रेस की सरकार में बड़े बदलाव के मुख्य सूत्रधार रहे राजस्थान सरकार के राजस्व मंत्री हरीश चौधरी का कहना है कि पंजाब में जो कुछ हुआ वह विधायकों की इच्छा और मर्जी से हुआ, लेकिन पंजाब की तुलना राजस्थान से नहीं की जा सकती. राजस्थान (Rajasthan News) में विधायकों का बहुमत अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) के साथ है. जिस तरह से पंजाब में एक आम आदमी चरणजीत सिंह चन्नी को सीएम पद की जिम्मेदारी दी गई है. यह कांग्रेस पार्टी में ही संभव है. इससे पहले राजस्थान में भी एक साधारण परिवार से आने वाले अशोक गहलोत को राजस्थान का मुख्यमंत्री बना चुकी है.

पंजाब की सियासत में हुए बड़े बदलाव के अहम सूत्रधार रहे. राजस्थान सरकार के राजस्व मंत्री हरीश चौधरी (Harish Chaudhary) ने आज जयपुर में मीडिया से बात करते हुए कई मुद्दों पर अपनी राय व्यक्त की. हरीश चौधरी ने कहा पंजाब में कांग्रेस पार्टी ने जिस तरह से बदलाव किया है वह विधायकों की राय और उनकी इच्छा के अनुरूप हुआ है. कैप्टन अमरिंदर सिंह की जगह एक ऐसे आम आदमी को सीएम पद की जिम्मेदारी दी गई है, जिसके जन्म के वक्त उनके सर पर छत नहीं थी. राजस्थान और पंजाब के हालातों की तुलना पर हरीश चौधरी ने कहा कि यहां मुख्यमंत्री अशोक गहलोत विधायकों के बहुमत के आधार पर सीएम हैं. राजस्थान में सरकार बहुत अच्छा काम कर रही है. अशोक गहलोत भी एक साधारण परिवार से आए हैं और राजस्थान में तीसरी बार सीएम बने हैं यह कांग्रेस पार्टी में ही संभव है. जब किसी आम नेता कार्यकर्ता को राज्य में सर्वोच्च पद की भूमिका मिल सकती है.

यह भी पढ़े- PCC ने संगठन में नियुक्तियों का खाका किया तैयार, इस बार पार्टी ने निकाला ये नया फार्मूला

हरीश चौधरी ने खुद को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में कहा कि मैं कोई पावर सेंटर नहीं हूं. ना ही मुझे पावर सेंटर की राजनीति पसंद है. मैं खुली और स्पष्ट राजनीति में विश्वास रखता हूं. हमारे नेता सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी हैं वह जो फैसला करते हैं वह सभी के लिए सर्वमान्य होता है. राजस्थान में गुटबाजी या खेमेबाजी जैसी कोई बात नहीं है, लेकिन यह कांग्रेस पार्टी की अच्छी और स्वस्थ परंपरा है कि यहां पार्टी के नेताओं कार्यकर्ताओं को अपनी बात रखने का अधिकार है, लेकिन अंतिम फैसला पार्टी आलाकमान का होता है. राजस्थान में मंत्रिमंडल फेरबदल विस्तार के सवाल पर हरीश चौधरी ने कहा कि यह अधिकार मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का है मैंने पहले भी कहा था मैं फिर भी यही कहना चाहता हूं कि जब मुख्यमंत्री स्वस्थ होकर दिल्ली जाएंगे तब यह माना जा सकता है कि राजस्थान में मंत्रिमंडल विस्तार फेरबदल होने वाला है. इससे पहले भी सीएम का दिल्ली जाने का कार्यक्रम था, लेकिन तो स्वास्थ्य ठीक नहीं होने की वजह से कार्यक्रम नहीं बन पाया.

हाल ही में सचिन पायलट की राहुल गांधी के साथ हुई मुलाकातों के सवाल पर हरीश चौधरी ने कहा कि मैंने सचिन पायलट को राहुल गांधी से मिलते हुए नहीं देखा है, लेकिन वह मिले होंगे और वह हमारे पार्टी के वरिष्ठ नेता हैं. पार्टी के लिए उन्हें लंबे समय तक काम किया है. पार्टी के लिए उनकी सेवाएं बहुमूल्य हैं. कमलेश प्रजापति एनकाउंटर के सवाल पर चौधरी ने कहा कि मैं इस मामले में बहुत अधिक कुछ नहीं कहना चाहता, लेकिन मुझे न्याय व्यवस्था पर विश्वास है सत्यमेव जयते के स्लोगन पर मुझे भरोसा है.