पेड़ों को सीमेंट-कंक्रीट से बचाने की मुहिम शुरू, शांति धारीवाल ने किया अभियान का आगाज
X

पेड़ों को सीमेंट-कंक्रीट से बचाने की मुहिम शुरू, शांति धारीवाल ने किया अभियान का आगाज

जयपुर शहर में हजारों की तादाद में पेड़ पौधों की जड़ों को सीमेंट कंक्रीट डामर से जकड़ दिया गया है.

 पेड़ों को सीमेंट-कंक्रीट से बचाने की मुहिम शुरू, शांति धारीवाल ने किया अभियान का आगाज

Jaipur: राजधानी जयपुर शहर के विभिन्न इलाकों में कंक्रीट और टाइल्स (concrete and tiles) में जकड़ी पेड़ों की जड़ों को मुक्त कराने के लिए अभियान शुरू किया गया है. नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल (Shanti Dhariwal) ने रविवार को दौरा कर जेएलएन मार्ग से अभियान की शुरुआत की है. जेडीए (JDA) की ओर से सड़कों के किनारे लगे पेड़ों की जड़ों से कंक्रीट हटाकर लगभग 3000 पेड़ों के चारों ओर ग्रेटिंग लगाया जाएगा.

जयपुर शहर में हजारों की तादाद में पेड़ पौधों की जड़ों को सीमेंट कंक्रीट डामर से जकड़ दिया गया है. पर्यावरण विशेषज्ञों (environmental experts) के अनुसार पेड़ पौधों की जड़ों को सीमेंट से जकड़ देना उन्हें धीमा जहर देने के समान है. यही कारण है कि धीरे-धीरे पौधे और पेड़ सूखते जाते हैं. पिछले दिनों इस तरह के मामले सामने आने के बाद नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल ने अधिकारियों से इसको लेकर चर्चा भी की थी. इसके बाद जयपुर विकास प्राधिकरण (Jaipur Development Authority) ने पेड़ों को असामयिक मौत से बचाने का बीड़ा उठाया है.

यह भी पढ़ें- Rajasthan Weather Update: करीब डेढ़ दर्जन जिलों में बारिश का यलो अलर्ट जारी

अधिकारियों ने बताया कि जेएलएन मार्ग, टोंक रोड, सी स्कीम, वैशाली नगर, विद्याधर नगर, सरदार पटेल मार्ग, अजमेर रोड, गोपालपुरा बाईपास (Gopalpura Bypass) और अन्य प्रमुख सड़कों पर पेड़ पौधों (trees-plants) को सीमेंट कंक्रीट से बचाने का अभियान शुरू किया जा रहा है. इस अभियान के तहत जड़ों के चारों ओर डेढ़ गुना डेढ़ मीटर की कच्ची जगह छोड़ी जाकर इन पर ग्रीटिंगस लगाई जा रही है.

यह भी पढ़ें- Petrol-Diesel Price Today: पेट्रोल-डीजल की कीमतों में फिर से बढ़ोतरी, जानें कितने बढे़ भाव

- पेड़ बचाने की इस मुहिम पर 86.16 लाख रुपये खर्च किए जाएंगे
- करीब छह महीने तक यह विशेष अभियान चलाया जाएगा 
- इसलिए जरूरी है पेड़ों से कंक्रीट हटाना
- ताकि आम आदमी हरियाली के पास बना रहे
- वाहनों की लगातार बढ़ती संख्या से बढ़ते प्रदूषण को कम किया जा सकेगा
- एसी फ्रिज आदि से निकलने वाली ग्रीन हाउस गैसों से ओजोन परत को बचाया जा सकेगा
- सड़कों के किनारे सूख गए पेड़ों को बचाने के लिए जड़ों को कंक्रीट मुक्त करना ही एकमात्र उपाय
- पेड़ों की दीर्घायु एवं जल संरक्षण में सहायक हैं पेड़
- एक पेड़ एक साल में 21.7 किलो कार्बन डाइऑक्साइड अपने अंदर सोख सकता है
- एक दिन में 4 लोगों को जिंदा रखने पर की ऑक्सीजन छोड़ता है पेड़
- 1 एकड़ में लगे हुए पेड़ 1 साल में इतनी कार्बन डाइऑक्साइड सोख सकते हैं जितने की एक कार 40 हजार किमी चलने में छोड़ती है
- एक पेड़ इतनी ठंड पैदा करता है जितनी एक एसी 10 कमरों में 20 घंटे चलने पर करता है  
- ऐसे में पेड़ों का दम घुटने से बचाने का यह अभियान जरूरी है

Trending news