Corona की घटी Speed तो BJP ने ज्यादा बढ़ाई सक्रियता, 22 जून को है कार्यसमिति की बैठक

बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया (Satish Poonia) ने बताया कि इस बार की कार्यसमिति की बैठक सेमी वर्चुअल होगी, जिसमें कुछ सदस्य पार्टी कार्यालय पर जुड़ेंगे तो कुछ वर्चुअल तरीके से जुड़ेंगे. 

Corona की घटी Speed तो BJP ने ज्यादा बढ़ाई सक्रियता, 22 जून को है कार्यसमिति की बैठक
बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया.

Jaipur: कोरोना (Corona) की दूसरी लहर में 'सेवा ही संगठन' अभियान के तहत काम करने वाली भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party) ने अपने कार्यक्रमों की रफ्तार बढ़ा दी है. पार्टी ने अगले पन्द्रह दिन के कार्यक्रम तय कर लिये हैं तो साथ ही प्रदेश कार्यसमिति की बैठक के लिए भी 22 जून की तारीख़ मुकर्रर की है. 

यह भी पढे़ं- सांसद Meena ने Rajasthan सरकार पर लगाया निराश्रित बच्चों की अवहेलना करने का आरोप!

बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया (Satish Poonia) ने बताया कि इस बार की कार्यसमिति की बैठक सेमी वर्चुअल होगी, जिसमें कुछ सदस्य पार्टी कार्यालय पर जुड़ेंगे तो कुछ वर्चुअल तरीके से जुड़ेंगे. 

यह भी पढे़ं- डेढ़ साल से बंद है खाद्य सुरक्षा का पोर्टल, BJP नेता Ramlal Sharma ने बोला तीखा हमला

कार्यसमिति बैठक में बीजेपी के राष्ट्रीय महामंत्री और प्रदेश प्रभारी डॉ. अरूण सिंह (Arun Singh) भी मौजूद रहेंगे. पूनिया ने कहा कि बैठक में सेवा ही संगठन के कार्यक्रमों की चर्चा, कोरोना काल में पार्टी के दिवंगत हुए कार्यकर्ताओं को सम्बल देने के लिए कार्ययोजना पर चर्चा, सशक्त मण्डल, सक्रिय बूथ समिति, पन्ना प्रमुख नियुक्ति, प्रदेश एवं जिलों के राजनीतिक व संगठनात्मक विषयों पर चर्चा होगी. पूनिया ने बताया कि 22 जून को स्व. सुन्दर सिंह भण्डारी स्मृति दिवस को प्रदेशभर में जन्म शताब्दी वर्ष के रूप में मनाया जाएगा.

तीसरी लहर का सामना करने के लिए स्वास्थ्य स्वयं सेवक 
सतीश पूनिया ने कहा कि विशेषज्ञ कोरोना की तीसरी लहर भी आने की आशंका जता रहे हैं. ऐसे में तीसरी लहर से निपटने के लिए पार्टी भी प्रत्येक मण्डल स्तर पर स्वास्थ्य स्वयंसेवक तैयार करेगी. ये स्वयंसेवक लोगों को कोविड गाइडलाइन और वैक्सीनेशन को लेकर जागरूकता का काम करेंगे. उन्होंने कहा कि 25 जून को आपातकाल का काला दिवस मनाया जाएगा. इसके बाद 27 जून को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ‘‘मन की बात’’ कार्यक्रम प्रदेश के सभी जिला और मण्डल स्तर पर सुना जाएगा.

जल स्त्रोतों को प्लास्टिक मुक्त करने के लिए चलाया जाएगा अभियान 
पूनिया ने कहा कि 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (International yoga day) पर भी बीजेपी मण्डल स्तर पर योग शिविर का आयोजन करेगी. इसके तहत प्रत्येक मण्डल पर दो-दो कैम्प लगाये जाएंगे. इसके साथ ही बीजेपी 23 जून को भारतीय जनसंघ के संस्थापक अध्यक्ष डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी (Syama Prasad Mukherjee) का बलिदान दिवस भी मनाएगी. मुखर्जी की पुष्णतिथि से 6 जुलाई को उनकी जयंती तक सभी बूथ स्तर पर गोष्ठियों और वृक्षारोपण के कार्यक्रम होंगे. पूनिया ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के लिए 5 लाख वृक्षारोपण किया जाएगा. इसके साथ ही ‘‘स्वच्छ भारत-स्वस्थ भारत’’ को ध्यान में रखते हुए तालाब, कुओं और दूसरे जल स्त्रोतों को प्लास्टिक मुक्त करने के लिए अभियान चलाया जाएगा.

कोरोना काल में केन्द्र का काम दुनिया ने देखा- पूनिया
पूनिया ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के मजबूत और कुशल नेतृत्व में लॉकडाउन के दौरान सारी व्यवस्थाएं चाक-चैबंद करने, देशभर में महामारी का मुकाबला करने, इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने, पीपीई किट, मास्क, वेंटिलेटर्स, दो स्वदेशी वैक्सीन सहित तमाम चिकित्सा सुविधाओं एवं उपकरणों का उत्पादन शुरू करना बड़ी उपलब्धि है. उन्होंने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर में चिकित्सा के बुनियादी ढांचे को मजबूत करते हुए ऑक्सीजन उत्पादन को बढ़ाकर 9 हजार मीट्रिक टन से अधिक करना, एयरलिफ्ट और ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन के जरिये अस्पतालों तक ऑक्सीजन पहुंचाना जैसे काम दुनिया के सामने बड़ा उदाहरण हैं. 

26 करोड़ से अधिक देशवासियों को वैक्सीन लगाना ऐतिहासिक उपलब्धि
पूनिया ने कहा कि वैक्सीनेशन भी एक बड़ी चुनौती थी, लेकिन प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में देश के वैज्ञानिकों का दो स्वदेशी वैक्सीन तैयार करना चिकित्सा क्षेत्र में मील का पत्थर साबित हुआ और आज 26 करोड़ से अधिक देशवासियों को वैक्सीन लगाना ऐतिहासिक उपलब्धि है. पूनिया ने कहा कि दिसम्बर 2021 तक सभी देशवासियों को वैक्सीनेशन का लक्ष्य है और इस पर काम भी चल रहा है. 

पूनिया ने कहा कि प्रधानमंत्री ने सहकारी संघवाद की भावना के अनुसार बीजेपी शासित और गैर बीजेपी शासित राज्यों में सरकारों का मनोबल बढ़ाया और सभी जरूरी चिकित्सा सुविधाएं लगातार उपलब्ध करवाई. पूनिया बोले कि बिना भेदभाव के मदद के बावजूद कई राजनीतिक दलों ने केन्द्र सरकार पर झूठे आरोप भी लगाए.