चीफ साहब की नौकरी पर संकट, डीओपी ने चार्जशीट थमाकर 15 दिन में मांगा जवाब

राजस्थान सिविल सेवा नियम 1958 के नियम-16 के तहत कार्रवाई होगी.

चीफ साहब की नौकरी पर संकट, डीओपी ने चार्जशीट थमाकर 15 दिन में मांगा जवाब
सीएम चौहान.

Jaipur : जलदाय विभाग के मुखिया की नौकरी पर संकट गहरा गया है. शहरी-NRW चीफ इंजीनियर सीएम चौहान को डीओपी उपसचिव भरत कुमार सौखिया ने चार्जशीट थमाकर 15 दिन में जवाब मांगा है. रिटायरमेंट के नजदीक 30 साल बाद सीएम चौहान (CM Chouhan) की नौकरी पर तलवार लटक गई है. डीओपी की जांच रिपोर्ट में सीएम चौहान को दोषी माना गया था.

चौहान ने पीडब्लूडी (PWD) में जेईएन होते हुए भी पीएचईडी (PHED) में एईएन की नियुक्ति ली थी. जिसके बाद अब राजस्थान सिविल सेवा नियम 1958 के नियम-16 के तहत कार्रवाई होगी. नियमों के मुताबिक सरकारी सेवा में रहते हुए कोई भी कार्मिक अनुकंपा नियुक्ति के आवेदन नहीं कर सकता है, लेकिन सीएम चौहान ने  सरकारी सेवा में रहते हुए भी अनुकंपा नियुक्ति ली.

यह भी पढ़ेंः Jaipur, Bikaner और Udaipur से पकड़े गए कई 'मुन्ना भाई', SI भर्ती में फर्जीवाड़े के प्रयास

सीएम चौहान का जून 2022 को होना है. शिकायतकर्ता कांग्रेस अभाव अभियोग प्रकोष्ठ संयोजक पंकज शर्मा ने कहा कि नियमों के खिलाफ चीफ इंजीनियर ने अनुकंपा नियुक्ति ली. इसकों लेकर मैने शिकायत की,अब कार्मिक विभाग कार्रवाई कर रहा है.