Cyclone Tauktae: राजस्थान में 18-19 को आ सकता है तौकते, अधिकारियों की छुट्टी कैंसिल

Cyclone Tauktae: इस तूफान के चलते प्रदेश के कुछ हिस्सों में 18 और 19 मई को भारी से बहुत भारी बारिश की चेतावनी दी गई है.

Cyclone Tauktae: राजस्थान में 18-19 को आ सकता है तौकते, अधिकारियों की छुट्टी कैंसिल
राजस्थान में तौकते तूफान को लेकर अलर्ट जारी कर दिया गया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Jaipur: अरब सागर के ऊपर बने पश्चिमी विक्षोभ के दबाव के कारण चक्रवाती तूफान तौकते (Cyclone Tauktae) से बचाव और सतर्कता को लेकर आपदा प्रबंधन विभाग ने सभी संभागीय आयुक्त और जिला कलेक्टर्स को एडवाइजरी जारी करते हुए अलर्ट कर दिया है.

तौकते तूफान देश के कई हिस्सों में नुकसान पहुंचा रहा है. राजस्थान में भी इस तूफान का असर हो सकता है. एडवायजरी में तूफान से निपटने की आवश्यक तैयारी करने के निर्देश दिए गए हैं. इस तूफान के चलते प्रदेश के कुछ हिस्सों में 18 और 19 मई को भारी से बहुत भारी बारिश की चेतावनी दी गई है.

कोरोना महामारी के बीच राजस्थान में चक्रवाती तूफान तौकते का खतरा, अधिकारियों को चौकस रहने के आदेश कोरोना महामारी के बीच चक्रवाती तूफान का खतरा मंडरा रहा है. तूफान के सक्रिय होने और राजस्थान तक पहुंचने की आशंकाओं के बीच आपदा प्रबंधन विभाग ने सभी संभागीय आयुक्तों और जिला कलेक्टर्स को व्यवस्थाओं को संभालने को लेकर अलर्ट कर दिया है.

ये भी पढ़ें-Rajasthan में भी Tauktae चक्रवाती तूफान का असर, बिजली कंपनियों ने बनाया Action Plan

 

खासकर वेंटिलेटर पर उखड़ती सांसों को संभालने में लगे कोविड रोगियों को बचाए रखने की कोशिश हो रही है. अस्पतालों को हर हाल में बिजली आपूर्ति सुचारू रखने के निर्देश दिए हैं. इसके साथ ही प्राइवेट हॉस्पिटल्स को वैंटीलेटर्स पर नजर रखने के आदेश दिए है.

आपदा प्रबंधन विभाग के प्रमुख सचिव आनंद कुमार का कहना है कि तूफान के संबंध में जारी अलर्ट को देखते हुए समय रहते सभी व्यवस्थाएं कर ली जाएं. इसके लिए सभी कलेक्टर्स को निर्देश दिए हैं. मौसम विभाग ने राज्य के कुछ जिलों में Tauktae Cyclone का हल्का-मध्यम प्रभाव रहने की चेतावनी जारी की गई है.

इसके मद्देनजर सतर्कता रखी जाए. अंधड़ या बरसात आने की स्थिति में भी अस्पतालों में कोविड प्रबंधन प्रभावित नहीं हो. प्रत्येक चिकित्सा संस्थान में बिजली आपूर्ति निर्बाध रहे, इसके मद्देनजर सभी व्यवस्थाएं कर ली जाएं. सभी चिकित्सा संस्थानों में जनरेटर हों. यह चालू स्थिति में रहें तथा आवश्यकता पड़ने पर इनका तत्काल उपयोग किया जा सके. बिजली कंपनी के अधिकारियों को एक्टिव मोड पर रहने के आदेश दिए गए हैं.

आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से जारी एडवायजरी में मौसम विभाग को तूफान के बारे में लोगों को अलर्ट रहने की जानकारी देने के साथ ही जिला नियंत्रण कक्ष को एक्टिव रखते हुए मौसम विभाग से प्राप्त चेतावनी को पंचायती राज संस्थाओं, स्थानीय नगरीय निकायों तक पहुंचाने के निर्देश दिए गए हैं, ताकि सभी विभाग इसकी पूर्व तैयारी करें.

डीक्यूआरटी, नागरिक सुरक्षा तथा सर्च एवं रेस्क्यू टीमों को संसाधनों के साथ तैयार रखा जाए. NDRF और SDRF समन्वय स्थापित रखते हुए काम करें. विद्युत वितरण विभाग के अधिकारी तूफान के कारण क्षतिग्रस्त विद्युत लाइनों की तुरंत प्रभाव से सही करें. जिले में उपलब्ध डीजी सेट की मैपिंग कर बाधारहित विद्युत सप्लाई को चालू रहे, यह भी विभाग सुनिश्चित करें.

       एडवाइजरी में यह भी निर्देश

  • विद्युत, पेयजल, यातायात से संबंधित कार्मिकों को अलर्ट रखा जाए.
  • कोरोना का प्रकोप है, ऐसें में अस्पतालों में बिजली आपूर्ति का ध्यान रखा जाए. पावर सप्लाई बाधित होने की स्थिति में निजी अस्पतालों में उपलब्ध डीजी-सेट की उपलब्धता की जानकारी रखें ताकि मरीजों को कोई परेशानी नहीं हो.
  • मरीजों के इलाज हेतु निर्बाध पावर सप्लाई उपलब्ध हो सके.
  • प्रभावित व्यक्तियों के लिए राहत शिविरों का चिन्हिकरण किया जाए.
  • PHED को पानी की पर्याप्त व्यवस्था करने के निर्देश दिए जाएं.
  • भारतीय मौसम विभाग की वेबसाइट पर अपडेट की जा रही सूचनाओं की जानकारी रखें.
  • लॉकडाउन के समस्त निर्देशों का पालन करवाया जाए.
  • संबंधित कार्मिकों का अवकाश निरस्त किया जाए.